हांगकांग एयपोर्ट फिर बंद, चीन के कड़े रुख से बिगड़ सकता है मामला | दुनिया | DW | 13.08.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

हांगकांग एयपोर्ट फिर बंद, चीन के कड़े रुख से बिगड़ सकता है मामला

हांगकांग के प्रदर्शनकारियों ने एयरपोर्ट पर यात्रियों को रोक दिया है. एयरपोर्ट से उड़ानों का परिचालन अनिश्चितकाल के लिए बंद होने की आशंका है. चीन की तरफ से विरोध बंद करने का निर्देश मिलने के बाद मामला और उलझ गया है.

1997 में ब्रिटेन से हांगकांग को हासिल करने के बाद यह जगह चीन के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन गई है. बीते कुछ महीनों से हांगकांग में निरंतर प्रदर्शन हो रहे हैं और हर गुजरते दिन के साथ स्थिति बिगड़ती जा रही है.

हांगकांग की चीन समर्थक नेता कैरी लाम ने मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में भावुक हो कर कहा कि अगर बढ़ती हिंसा को ना रोका गया तो इसके खतरनाक नतीजे हो सकते हैं. कैरी लाम ने कहा, "हिंसा, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इसका इस्तेमाल कर रहे हैं या फिर इसकी अनदेखी कर रहे हैं, यह हांगकांग को ऐसे रास्ते पर ले जाएगी जहां से वापस लौटना मुमकिन नहीं होगा. पिछले हफ्ते हांगकांग की स्थिति से मुझे चिंता हो रही है कि हम खतरनाक हालत में पहुंच गए हैं."

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कैरी लाम को कड़े सवालों का सामना भी करना पड़ा. पत्रकारों ने उन पर राजनीतिक रूप से नाकाम होने के आरोप लगाए और उनसे काफी तूतू मैं मैं भी हुई. कैरी लाम के प्रेस काफ्रेंस के कुछ ही घंटों के बाद हजारों प्रदर्शनकारी हांगकांग एयरपोर्ट पर पहुंच गए और प्रस्थान कक्ष (डिपार्चर हॉल) के सुरक्षा द्वार के सामने बैठ गए. 21 साल के एक छात्र ने समाचार एजेंसी एएफपी से कहा, "मैं एयरपोर्ट कल की तरह बंद करना चाहता हूं ताकि यहां से जाने वाली ज्यादातर उड़ानें रद्द कर दी जाएं."

प्रदर्शनकारियों ने सामान ढोने वाली ट्रॉली की मदद से एक एक सुरक्षा द्वार के सामने लंबा बैरिकेड बना दिया है और जो कोई यात्री उसके पार जाने की कोशिश कर रहा है उसे रोक देते हैं. सोमवार को भी करीब 5000 प्रदर्शनकारी हांगकांग के एयरपोर्ट पर जमा हो गए और एयरपोर्ट पर कामकाज में बाधा डाली. आखिरकार एयरपोर्ट को बंद करना पड़ा दोपहर बाद की सभी उड़ानें रद्द कर दी गईं. इन लोगों का कहना है कि पुलिस हिंसक तरीके अपना कर उनके विरोध को कमजोर करने की कोशिश कर रही है. बहुत से अंतरराष्ट्रीय यात्री हांगकांग में फंसे हुए हैं. मंगलवार की सुबह फिर एयरपोर्ट पर उड़ानें शुरू हुईं लेकिन दोपहर बाद फिर प्रदर्शनकारी जमा हो गए और कामकाज ठप्प हो गया.

प्रदर्शनकारी नारे लगा रहे हैं और दीवारों पर ग्राफिटी के जरिए अपने संदेश फैला रहे हैं. एक जगह उन्होंने "आंख के बदले आंख" लिखा है. रविवार को विरोध प्रदर्शन काफी उग्र हो गया था और इसमें एक महिला प्रदर्शनकारी की आंख चली गई. यात्रियों के लिए मुश्किल हो रही है लेकिन उनमें से बहुत से लोग इन प्रदर्शनकारियों के प्रति सहानुभूति भी दिखा रहे हैं. 65 साल के ब्रिटिश नागरिक पीट नॉक्स ने कहा, "मैं विरोध का आधार समझ सकता हूं, उनके पास एक मुद्दा है, यह आजादी और लोकतंत्र से जुड़ा है जो अतुलनीय रूप से जरूरी है."

हांगकांग में विरोध प्रदर्शन प्रत्यर्पण कानून के खिलाफ शुरू हुआ जिसमें लोगों पर मुकदमा चलाने के लिए उन्हें चीन की मुख्य भूमि पर प्रत्यर्पित करने की बात थी. हालांकि बाद में इसने हांगकांग के लिए ज्यादा स्वायत्तता की मांग का रूप धर लिया.

बीजिंग में अधिकारियों ने सोमवार को इन विरोध प्रदर्शनों की निंदा की है. उन्होंने हिंसक प्रदर्शनकारियों की पुलिस पर पेट्रोल बम से हमला करने के लिए कड़ी आलोचना की और उसे "आतंकवाद" से जोड़ा. मंगलवार को चीन की सरकारी मीडिया ने एक कदम और आगे जा कर प्रदर्नकारियों को "गुंडा" कहा. इसके साथ ही यह चेतावनी भी दी गई कि उनका किसी भी रूप में तुष्टिकरण नहीं होना चाहिए. साथ ही मुख्य चीन के सुरक्षाबलों को उन पर काबू पाने में लगाया जाना चाहिए.

वाइबो चैनल पर सीसीटीवी के एक एंकर ने दर्शकों को चेतावनी दी, "आतंकवाद से निपटने में कोई नरमी नहीं दिखाई जानी चाहिए." इस बीच सरकारी मीडिया पर दिखाए जा रहे वीडियो में चीनी सेना और बख्तरबंद गाड़ियां दक्षिणी शहर शेनजेन में जमा होती दिख रही हैं. इस शहर की सीमा हांगकांग से लगती है.

संयक्त राष्ट्र के एक अधिकारी ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ पुलिस के बल प्रयोग करने पर मंगलवार को चिंता जताई है. उन्होंने इसकी निष्पक्ष जांच कराने को भी कहा है. अमेरिका ने सभी पक्षों से संयम बरतने की अपील की है ताकि हिंसा से बचा जा सके.

एनआर/आईबी (एएफपी)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन