महिलाएं चुकाती हैं युद्ध और संघर्ष में सबसे ज्यादा कीमत | दुनिया | DW | 18.03.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

महिलाएं चुकाती हैं युद्ध और संघर्ष में सबसे ज्यादा कीमत

संयुक्त राष्ट्र महिला एजेंसी का कहना है सभी संकटों और संघर्षों में महिलाएं और लड़कियां सबसे अधिक कीमत चुकाती हैं. म्यांमार, अफगानिस्तान से लेकर साहेल और हैती के बाद अब यूक्रेन का भयानक युद्ध उस सूची में शामिल हो गया है.

महिलाएं और बच्चे यूक्रेन छोड़ने को मजबूर

महिलाएं और बच्चे यूक्रेन छोड़ने को मजबूर

संयुक्त राष्ट्र महिला एजेंसी की कार्यकारी निदेशक सीमा बहाउस ने यूक्रेन में जारी युद्ध पर कहा कि हर गुजरते दिन के साथ यह महिलाओं और लड़कियों की जिंदगी, उम्मीदों और भविष्य को बर्बाद कर रहा है. उन्होंने कहा तथ्य ये है कि यह युद्ध गेहूं और तेल उत्पादक दो देशों के बीच होने की वजह से दुनिया भर में जरूरी चीजों तक पहुंच को खतरा पैदा कर रहा है और यह ''महिलाओं और लड़कियों को सबसे कठिन तरीके से प्रभावित करेगा.''

बहाउस ने उन पुरुषों का जिक्र नहीं किया जो यूक्रेन युद्ध में मारे जा रहे हैं और घायल हुए हैं. हालांकि उन्होंने कहा, ''मैं प्रार्थना करती हूं कि महिलाएं और वे सभी जो संघर्ष का सामना कर रहे हैं, उन्हें जल्द ही शांति मिले.''

इस साल यूएन महिला एजेंसी के दो सप्ताह की बैठक का प्राथमिक विषय जलवायु परिवर्तन से निपटने में महिलाओं को सशक्त बनाना है. यह कोविड-19 महामारी के बाद तीन वर्षों में महिलाओं की स्थिति पर आयोग का पहला ऑफलाइन सत्र है.

बहाउस ने कहा सभी संघर्षों के साथ साथ जलवायु परिवर्तन भी महिलाओं और लड़कियों से भारी कीमत वसूलता है.

रूसी टीवी चैनल पर लाइव शो में चली आई युद्ध विरोधी प्रदर्शनकारी

दूसरी ओर बैठक को संबोधित करते हुए यूएन महासचिव अंटोनियो गुटेरेश ने कहा कि समाज आज भी पुरुष प्रधान है. उन्होंने कहा जलवायु संकट, प्रदूषण, मरुस्थलीकरण और जैव विविधता के नुकसान के साथ-साथ कोरोना महामारी और अब यूक्रेन युद्ध का असर सभी को प्रभावित करता है लेकिन महिलाओं और लड़कियों को ''सबसे बड़े खतरों और सबसे गहरे नुकसान का सामना करना पड़ता है.''

यूक्रेन युद्ध की वजह से लाखों की संख्या में महिलाएं और बच्चे देश छोड़ने पर मजबूर हुए हैं. यूक्रेन से अब तक 32 लाख लोग भाग चुके हैं. यूएन की मानवीय राहत एजेंसी का कहना है कि यूक्रेन में मौजूदा हालात की वजह से लगभग हर एक सेकंड में एक बच्चा शरणार्थी बनने के लिए मजबूर है.

जर्मन पुलिस की चेतावनी, मानव तस्करों से सावधान रहें यूक्रेनी औरतें

एए/सीके (एएफपी, एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री