नाटो ने कहा, रूस सीधा खतरा जबकि चीन है नई चुनौती | दुनिया | DW | 29.06.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

नाटो ने कहा, रूस सीधा खतरा जबकि चीन है नई चुनौती

पश्चिमी सैन्य संगठन नाटो के महासचिव येंस स्टॉल्टेनबर्ग ने रूस को 'सुरक्षा के लिए सीधा खतरा' बताया है. स्पेन में नाटो के शिखर सम्मेलन में सदस्य देश इस 'सबसे बड़ी चुनौती' से निपटने की रणनीति पर चर्चा कर रहे हैं.

Spanien Nato-Gipfel Madrid

मैड्रिड में शाही भोज से पहले इकट्ठा नाटो नेता

स्पेन की राजधानी मैड्रिड में नाटो शिखर सम्मेलन के दूसरे दिन स्टॉल्टेनबर्ग ने कहा कि यूक्रेन में शुरू किए गए रूसी युद्ध ने नाटो के सामने उसके इतिहास की सबसे बड़ी चुनौती पेश की है. सम्मेलन के मेजबान स्पेन के प्रधानमंत्री पेद्रो सांचेज ने अपने भाषण में कहा, "हम पुतिन को सख्त संदेश दे रहे हैं: आप नहीं जीत पाओगे."

नाटो की वेबसाइट के अनुसार हर दस साल में उसकी अवधारणा को अपडेट किया जाता है ताकि वह नाटो के मूल्यों और उद्देश्यों के अनुरूप हो और सुरक्षा परिदृश्य का समूचा मूल्यांकन हो सके. यूक्रेन में रूसी हमले के बाद नाटो ने समन्वित प्रतिक्रिया और संगठन में नई जान फूंके जाने की जरूरत पर जोर दिया है.

नाटो का विस्तार

कई दशक तक तटस्थ रहने के बाद फिनलैंड और स्वीडन भी अब नाटो का हिस्सा बनना चाहते हैं. नाटो में इन नॉर्डिक देशों के शामिल होने पर तुर्की की आपत्तियों को भी दूर कर लिया गया है. स्टॉल्टेनबर्ग ने कहा, "हम शिखर सम्मेलन में फैसला करेंगे कि स्वीडन और फिनलैंड को सदस्य बनने के लिए आमंत्रित किया जाए." उन्होंने इस फैसले को 'ऐतिहासिक' बताया.

Präsident Selenskyj nimmt am NATO-Gipfel teil

यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की की नाटो नेताओं से चर्चा

नाटो शीत युद्ध के बाद अपनी रक्षा और प्रतिरोधक क्षमताओं में सबसे बड़ी वृद्धि करने जा रहा है. इसमें युद्धक अभियानों के लिए ज्यादा सैनिक और पूर्वी यूरोप में पूर्व निर्धारित ठिकानों पर सैन्य उपकरणों की तैनाती शामिल है. यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेंलेंस्की भी वीडियो लिंक के जरिए नाटो शिखर सम्मेलन को संबोधित करेंगे.

चीन पर भी नजर

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने बुधवार को कहा कि नाटो की अब पहले से कहीं ज्यादा जरूरत है और इसीलिए इस गठबंधन की क्षमता को हर जगह बढ़ाया जाए- जल, थल और आकाश में. उन्होंने कहा कि अमेरिका यूरोप में अपने सैन्य बल बढ़ाएगा और स्पेन में दो और पोत तैनात किए जाएंगे जबकि ब्रिटेन में दो अतिरिक्त जेट स्क्वैडर्न लगाए जाएंगे. इसके अलावा अमेरिका पोलैंड में नया सैन्य मुख्यालय बनाएगा. बाइडेन ने कहा कि यह शिखर सम्मेलन 'स्पष्ट संदेश' देगा कि नाटो मजबूत और एकजुट है.

Spanien I NATO Gipfel I Recep Tayyip Erdogan

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोवान ने नाटो विस्तार को दी सहमति

नाटो की नई रणनीतिक अवधारणा में चीन की सैन्य वृद्धि को नाटो के लिए एक दीर्घकालीन रणनीतिक प्रतिद्वंद्वी के तौर पर शामिल किया जाएगा. स्टॉल्टेनबर्ग ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा, "मुझे उम्मीद है कि सहयोगी देश इस बात पर सहमत होंगे कि चीन हमारे मूल्यों, हमारे हितों और हमारी सुरक्षा के लिए चुनौती पेश कर रहा है या चुनौती है."

उन्होंने कहा कि नाटो की मौजूदा सुरक्षा अवधारणा में चीन का बिल्कुल भी जिक्र नहीं है. उनके मुताबिक, "चीन दुश्मन नहीं है, लेकिन जब हम देख रहे हैं कि चीन जिस तरह से अपनी सैन्य क्षमताओं को बढ़ा रहा है, तो बेशक उससे हमारी सुरक्षा पर पड़ने वाले दुष्परिणामों पर हमें ध्यान देना होगा."

एके/एमजे (एपी, रॉयटर्स, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री