1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
तस्वीर: Reuters/M. Azakir
समाज

बेरूत धमाका: लेबनान की पूरी सरकार का इस्तीफा

११ अगस्त २०२०

लेबनान के प्रधानमंत्री हसन दियाब ने 4 अगस्त को हुए धमाके के बाद पूरी कैबिनेट के साथ इस्तीफा दे दिया है. कई मंत्री और सांसद प्रदर्शनों के बाद पहले ही इस्तीफा दे चुके थे. दियाब ने कहा है कि वे लेबनान की जनता के साथ हैं.

https://www.dw.com/hi/lebanons-government-resigns-over-deadly-beirut-port-blast/a-54521740

लेबनान के प्रधानमंत्री हसन दियाब ने टेलीविजन पर प्रसारित अपने भाषण में सरकार के इस्तीफे का ऐलान किया. सोमवार को देश के नाम संक्षिप्त संबंधोन में दियाब ने कहा वह "एक कदम पीछे" जा रहे हैं ताकि वह लेबनान की जनता के "साथ खड़े होकर बदलाव की लड़ाई लड़ सके." उन्होंने अपने संबोधन में कहा, "मैं आज अपनी सरकार के इस्तीफे की घोषणा करता हूं. ईश्वर लेबनान की रक्षा करे." दियाब ने आगे कहा, "आज हम जनता और उनकी मांगों पर ध्यान दे रहे हैं और इस त्रासदी के लिए जिम्मेदार लोगों को दोषी ठहराने की मांग को मान रहे हैं."

दियाब ने पिछले सप्ताह राजधानी बेरूत में घातक विस्फोट के लिए अपने पूर्ववर्तियों को दोषी ठहराया. उन्होंने कहा, "उन्हें (राजनीतिक वर्ग) खुद पर शर्म आनी चाहिए क्योंकि उनके भ्रष्टाचार की वजह से ऐसी त्रासदी हुई जो कई सालों से छिपी हुई थी." लेबनान के राष्ट्रपति माइकल आउन ने सरकार का इस्तीफा मंजूर कर लिया है.

जनता के बढ़ते दबाव के बीच लेबनानी सरकार ने सोमवार को कैबिनेट की बैठक की थी. 4 अगस्त को राजधानी बेरूत के बंदरगाह पर हुए विस्फोट में 163 लोगों की मौत हो गई थी और 6,000 से अधिक लोग घायल हो गए थे. दियाब ने देश की हालत के लिए भ्रष्टाचार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा, "मैंने पहले भी कहा है भ्रष्टाचार हर स्तर पर जड़े जमाए हुए है. मुझे मालूम चल गया है कि भ्रष्टाचार राष्ट्र से भी बड़ा है." उन्होंने एक खास राजनीतिक वर्ग की ओर इशारा करते हुए कहा कि वह देश में बदलाव नहीं देखना चाहता और उनकी सरकार को सुधारों को लागू करने के लिए एक मजबूत दीवार का सामना करना पड़ा.

Libanon Proteste  nach der Explosion in Beirut
बेरूत में आगजनी करते प्रदर्शनकारी. तस्वीर: Getty Images/AFP/J. Eid

इस बीच फ्रांस ने लेबनान में नई सरकार के "तीव्र गठन" का आग्रह किया है. फ्रांस के विदेश मंत्री जीन-यवेस ले ड्रियान ने एक बयान में कहा, "सुधारों और शासन के संदर्भ में लेबनान की जनता द्वारा व्यक्त की गई आकांक्षाओं को सुना जाना चाहिए. ऐसी सरकार के तेजी के साथ गठन की प्राथमिकता होनी चाहिए जो लोगों की उम्मीदों पर खरा उतर सके."

राष्ट्रपति माइकल आउन ने दियाब की सरकार को कार्यकारी सरकार के रूप में काम करने को कहा है. इसी साल जनवरी में हिजबुल्लाह और उसके सहयोगियों की मदद से दियाब ने प्रधानमंत्री का पद संभाला था. दियाब के इस्तीफे के ऐलान के पहले ही मध्य बेरूत में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे. विरोध प्रदर्शन में शामिल लोगों ने संसद भवन के एक गेट पर पथराव किया जिसके जवाब में सुरक्षा बलों ने आंसू गैस के गोले दागे. 4 अगस्त को बेरूत धमाके के अगले दिन से ही लेबनान में सरकार विरोधी प्रदर्शन शुरू हो गए थे. लोग सरकार पर नाकामी का आरोप लगाते आ रहे हैं. लेबनान की जनता का आरोप है कि सरकारी तंत्र में भ्रष्टाचार की वजह से बेरूत में इतना बड़ा धमाका हुआ और सैकड़ों लोग मारे गए.

एए/सीके (एएफपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

डॉक्टर स्वांते पेबो

आदिमानव का जीनोम खोजने वाले वैज्ञानिक को नोबेल पुरस्कार

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं