1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
भारत
फाइल तस्वीरतस्वीर: DW
अपराधभारत

रामनवमी दंगों के दौरान हत्या के आरोप में पांच गिरफ्तार

चारु कार्तिकेय
२२ अप्रैल २०२२

मध्य प्रदेश के खरगोन में रामनवमी पर हुई हिंसा के दौरान इब्रिस खान की हत्या के आरोप में पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. इब्रिस खान दंगों के बाद से लापता थे. उनका शव आठ दिनों बाद इंदौर के एक मुर्दाघर में मिला.

https://www.dw.com/hi/five-arrested-for-murder-during-ram-navami-violence-in-madhya-pradesh/a-61553193

खरगोन पुलिस ने पत्रकारों को बताया कि दंगों की रात सात-आठ लोगों ने 28 साल के इब्रिस खान की हत्या कर दी थी. कार्यकारी पुलिस अधीक्षक रोहित काशवानी ने बताया कि हमलावरों ने 'धार्मिक उन्माद' में खान को मार डाला था.

शव जब अगले दिन बरामद हुआ तो उसकी पहचान नहीं हो पाई और खरगोन में शवों को बर्फ में रखने वाले मुर्दाघरों के अभाव की वजह से शव को 120 किलोमीटर दूर इंदौर मुर्दाघर में भेज दिया गया.

(पढ़ें: रामनवमी पर कई राज्यों में सांप्रदायिक हिंसा)

'धार्मिक उन्माद' का नतीजा

काशवानी ने बताया कि हत्या के आरोप में दिलीप, संदीप, अजय कर्मा, अजय सोलंकी और दीपक प्रधान नाम के पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है, लेकिन तीन और फरार हैं. उन्होंने यह भी बताया कि गिरफ्तार किए गए पांचों लोगों ने अपना अपराध कबूल कर लिया है.

मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया है कि चश्मदीद गवाहों ने भी इस बात की पुष्टि की है कि उन्होंने जिन लोगों को इब्रिस पर हमला करते देखा था, ये पांच लोग उनमें शामिल थे. कुछ मीडिया रिपोर्टों में यह भी बताया गया है कि इब्रिस के परिवार ने पुलिस पर भी हत्या में शामिल होने का आरोप लगाया है.

(पढ़ें: कई राज्यों में अब भी जारी है हिंसा का दौर)

पुलिस पर सवाल

इब्रिस के भाई इख्लाक ने पत्रकारों के सामने दावा किया कि उनके भाई को आखिरी बार खरगोन में पुलिस की ही हिरासत में देखा गया था. उन्होंने बताया कि जब उन्होंने मीडिया के सामने जाने की धमकी दी तब जा कर पुलिस ने इब्रिस की जानकारी उसके परिवार को दी. पुलिस ने इन आरोपों पर अभी कुछ नहीं कहा है.

इब्रिस की मौत खरगोन में हुए दंगों में सामने आने वाला हत्या का पहला मामला है. दंगे 10 अप्रैल को शहर में रामनवमी के अवसर पर एक शोभायात्रा निकाले जाने के दौरान हुए थे. 

(पढ़ें: अब दिल्ली पहुंचा सत्ता का बुलडोजर)

दंगों में शामिल होने के संदेह में अभी तक कम से कम 150 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिनमें से कइयों के मकान और दुकानें अवैध अतिक्रमण बता कर स्थानीय प्रशासन ने तुड़वा दिए. शहर में अभी भी कर्फ्यू लगा हुआ है. 21 अप्रैल को कर्फ्यू में छह घंटों की ढील दी गई थी.

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

बर्लिन की सेहितलिक मस्जिद

ताज महल जैसी है जर्मनी की एक मस्जिद

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं