इंडिया गेट पर बुझ जाएगी अमर जवान ज्योति की लौ | भारत | DW | 21.01.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

इंडिया गेट पर बुझ जाएगी अमर जवान ज्योति की लौ

दिल्ली के इंडिया गेट पर 24 घंटे जलने वाली अमर जवान ज्योति की लौ राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की मशाल के साथ विलीन होने जा रही है. करीब 50 साल बाद यह ज्योति बुझने जा रही है.

इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की जलते रहने वाली लौ अब 50 साल बाद हमेशा के लिए बुझ जाएगी. अब यह मशाल राष्ट्रीय युद्ध स्मारक (नैशनल वॉर मेमोरियल) की मशाल के साथ मिला दी जाएगी.

शुक्रवार दोपहर एक समारोह में ज्योति का एक हिस्सा इंडिया गेट से करीब 400 मीटर दूरी पर राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर ले जाया जाएगा. राष्ट्रीय युद्ध स्मारक का उद्घाटन फरवरी 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया गया था. शहीदों को श्रद्धांजलि देने और देश के प्रति उनके बलिदान को याद रखने के लिए नैशनल वॉर मेमोरियल की मशाल जलती रहेगी.

26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शहीदों को श्रद्धांजलि देने नैशनल वॉर मेमोरियल ही जाएंगे.

कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने इस फैसले पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा कुछ लोग देश प्रेम और बलिदान नहीं समझते. उन्होंने ट्वीट किया, "बहुत दुख की बात है कि हमारे वीर जवानों के लिए जो अमर ज्योति जलती थी, उसे आज बुझा दिया जाएगा. कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते- कोई बात नहीं…हम अपने सैनिकों के लिए अमर जवान ज्योति एक बार फिर जलाएंगे!"

इस कदम की तीखी आलोचना के बीच सरकार ने कहा कि "बहुत सारी गलत सूचना" प्रसारित हो रही थी. मीडिया में सरकारी सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है, "अमर जवान ज्योति की लौ बुझ नहीं रही है. इसे राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की लौ में मिलाया जा रहा है."

अमर जवान ज्योति की लौ 1971 के युद्ध में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए स्थापित की गई थी. इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने गणतंत्र दिवस 1972 पर किया था. इंडिया गेट के नीचे अमर जवान ज्योति को 1971 में पाकिस्तान पर भारत की जीत के बाद प्रज्ज्वलित किया गया था. युद्ध में मारे गए भारतीय सैनिकों के सम्मान में यह ज्योति आज तक जलती आ रही है.

इंडिया गेट का निर्माण ब्रिटिश सरकार ने पहले विश्व युद्ध और अन्य अभियानों में मारे गए करीब 90 हजार सैनिकों की याद में किया था.

नैशनल वॉर मेमोरियल में जलेगी ज्योति

नैशनल वॉर मेमोरियल इंडिया गेट परिसर के पास ही 40 एकड़ में फैला हुआ है. इसको तैयार करने में करीब 176 करोड़ रुपये खर्च हुए. यह 1962 में भारत-चीन युद्ध, भारत-पाकिस्तान के बीच हुए 1947, 1965, 1971 और 1999 कारगिल युद्धों दौरान अपनी जान गंवाने वाले सैनिकों को समपर्ति है. इसके साथ ही यह श्रीलंका में भारतीय शांति सेना के संचालन के दौरान और संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन के दौरान शहीद हुए सैनिकों को भी समर्पित है.

नैशनल वॉर मेमोरियल में चार चक्र हैं. अमर चक्र, वीरता चक्र, त्याग चक्र और सुरक्षा चक्र. इसमें 25,942 जवानों के नाम अंकित हैं, जिन्होंने आजादी के बाद देश के लिए युद्ध और संघर्षों में अपनी जान दी. नैशनल वॉर मेमोरियल आजाद भारत के लिए युद्ध और संघर्ष में मारे जाने वाले भारतीय सेना के सैनिकों का सम्मान और प्रतिनिधित्व करता है.

DW.COM

संबंधित सामग्री