भारतीय स्टाइल का टॉयलेट नहीं चलेगा | मनोरंजन | DW | 09.08.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

भारतीय स्टाइल का टॉयलेट नहीं चलेगा

मैनचेस्टर के एक बड़े शॉपिंग सेंटर ने भारतीय स्टाइल का टॉयलेट बनवाने से इनकार किया. मैनचेस्टर में दक्षिण एशियाई मूल के लोगों की बड़ी संख्या को देखते हुए पहले इंडियन स्टाइल टॉयलेट बनाने की योजना थी.

default

मैनेचेस्टर के रॉखडेल एक्सचेंज शॉपिंग सेंटर ने अब बैठकर शौच करने की योजना को बैठा दिया है. दक्षिण एशियाई मूल के लोगों की सहूलियत को देखते हुए पहले योजना भारतीय टॉयलेट कमोड्स लगाने की थी. यानी ग्राहक चाहें तो देसी अंदाज में आराम से बैठकर हल्के हो लें. लेकिन ब्रिटेन में इस योजना का जोरदार विरोध होने लगा.

कुछ लोगों ने इसे नस्लवाद जोड़ दिया. शहर के काउंसलर फारुक अहमद ने इस योजना को नस्ली बताया और रॉखडेल की आलोचना की. विवाद बढ़ने के बाद रॉखडेल के उप सलाहकार एश्ले डियर्नले ने कहा, ''मुझे यह बताते हुए बेहद खुशी हो रही है कि शॉपिंग सेंटर को यह एहसास हो गया है कि यह हर दृष्टि से एक गलत कदम था. यह शहर और आपसी सौहार्द के लिए भी गलत था.''

हालांकि मैनचेस्टर के एयरपोर्ट और रॉयल मेल के दफ्तर में भारतीय स्टाइल के कमोड्स लगे हुए हैं. यही वजह थी कि रॉखडेल भी इस राह पर निकल पड़ा. लेकिन अब एश्ले डियर्नले कहते हैं, ''टॉयलेट बन चुके हैं, लेकिन उनका इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. मुझे एक धमकी भरा खत भी मिला, उसमें शॉपिंग सेंटर से सार्वजनिक माफी मांगने की बात कही गई थी.''

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: महेश झा

DW.COM

विज्ञापन