तालाबंदी में बड़ी छूट, खुल सकेंगी कई दुकानें | भारत | DW | 25.04.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

तालाबंदी में बड़ी छूट, खुल सकेंगी कई दुकानें

सरकार ने ग्रामीण इलाकों में और शहरों के रिहाइशी इलाकों में सभी तरह की दुकानों को खोलने की इजाजत दे दी है. इस निर्देश को केंद्र सरकार के अर्थव्यवस्था को धीरे धीरे खोलने की तरफ बढ़ने का संकेत माना जा रहा है.

तालाबंदी के दूसरे चरण की समय सीमा खत्म होने में अभी कई दिन बचे हुए हैं, लेकिन इसी बीच केंद्र सरकार ने तालाबंदी में एक बड़ी छूट की घोषणा कर दी है. शुक्रवार 24 अप्रैल देर रात जारी किये एक निर्देश में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ग्रामीण इलाकों में और शहरों के रिहाइशी इलाकों में सभी तरह की दुकानों को खोलने की इजाजत दे दी. मॉल और बाजार अभी भी बंद रहेंगे, लेकिन गली-मोहल्लों में दुकानें खुल सकेंगी.

इस छूट में कुछ शर्ते भी रखी गई हैं. ये छूट हॉटस्पॉट और कन्टेनमेंट इलाकों में लागू नहीं होगी. ये वो इलाके हैं जहां संक्रमण पाए जाने की वजह से उन्हें प्रशासन ने सील कर दिया है. जहां छूट लागू है वहां सिर्फ शॉप्स एंड एस्टैब्लिशमेंट कानून के तहत पंजीकृत दुकानें खुल सकेंगी. शराब की दुकानें नहीं खुल सकेंगी क्योंकि वे एक्साइज एक्ट के तहत पंजीकृत होती हैं. जो भी दुकानें खुलेंगी उनमें काम करने वालों में से सिर्फ 50 प्रतिशत कामगार आ सकेंगे, सब को मास्क लगाना होगा और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा.

बताया जा रहा है कि जो राज्य सरकारें अभी इस तरह की छूट नहीं देना चाह रही हों उन्हें कड़ाई बरकरार रखने की इजाजत है. कुल मिला कर, इस निर्देश को केंद्र सरकार के अर्थव्यवस्था को धीरे धीरे खोलने की तरफ बढ़ने का संकेत माना जा रहा है. इसके पहले भी 20 अप्रैल को केंद्र सरकार ने कई आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने की इजाजत दे दी थी. सरकार का कहना है कि खनन जैसे क्षेत्रों में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ साथ आर्थिक गतिविधियां चल रही हैं.

एक बड़ा सवाल अब भी बना हुआ है कि क्या तालाबंदी में इतनी ढील देने का सही समय आ गया है? राष्ट्रीय स्तर पर रोज 1000 से ज्यादा संक्रमण के नए मामले सामने आ रहे हैं. गुरूवार 23 अप्रैल और शुक्रवार 24 अप्रैल के बीच तो 24 घंटों में होने वाली अभी तक की सबसे बड़ी वृद्धि देखी गई थी. ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में कुल  मामलों की संख्या बढ़ कर 24,506 हो गई है. इनमें 18,668 लोगों में वायरस अभी सक्रिय है और ठीक हो जाने वालों की संख्या है 5,062.

मरने वालों की संख्या 775 हो गई है. सरकार का कहना है कि ऐसे 80 जिले हैं जिनमें पिछले 14 दिनों में कोई नया मामला सामने नहीं आया है और यह एक अच्छा संकेत है. सरकार का यह भी कहना है कि कोविड-19 के मरीजों के ठीक होने की दर में भी वृद्धि हुई है और यह एक और अच्छा संकेत है.

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन