कोरोना से जंग के पहले चरण में जर्मनी को मिली सफलता | दुनिया | DW | 06.05.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

कोरोना से जंग के पहले चरण में जर्मनी को मिली सफलता

जर्मनी में केंद्र और राज्य सरकारों ने कुछ शर्तों के साथ लॉकडाउन में और छूट देने पर सहमति बना ली है. आने वाले दिनों में सभी दुकानें खुल सकेंगी और फुटबॉल का बुंडेसलीगा मुकाबला भी होगा लेकिन बिना दर्शकों वाले स्टेडियम में.

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने कहा है कि महामारी का पहला चरण अब बीत चुका है लेकिन आगे अभी लंबी राह बाकी है. मैर्केल ने राज्यों के नेताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस पर चली बैठक के बाद नई घोषणाएं करते हुए कहा, "अब हम उस जगह पर हैं जहां हमने संक्रमण को धीमा करने का अपना लक्ष्य हासिल कर लिया है. हम अपने हेल्थ सिस्टम को सुरक्षित रखने में भी सफल रहे हैं तभी और छूट देने के बारे में चर्चा करना और सहमत होना संभव हुआ है."

केंद्र और राज्य सरकारें इस पर सहमत हैं कि तमाम छूट के साथ सार्वजनिक जीवन में सोशल डिस्टेंसिंग को 5 जून तक बरकरार रखा जाए. अब दो अलग अलग परिवारों के लोगों को सार्वजनिक रूप से मिलने की अनुमति होगी, लेकिन नाक और मुंह को ढक कर. घर से बाहर निकलने पर लोगों को आपस में 1.5 मीटर की दूरी अब भी बरकरार रखनी होगी. सार्वजनिक परिवहन में मास्क लगा कर रखना भी अनिवार्य रहेगा.

खुलेंगी छोटी बड़ी दुकानें

देश में हर तरह की छोटी बड़ी दुकानें फिर से खुल सकेंगी. वहां भी सोशल डिस्टेंसिंग और साफ सफाई का ख्याल रखना होगा. रेस्तरां को कब और कैसे खोलना है इसका फैसला जर्मन राज्य खुद लेंगे. हर हाल में राज्यों को यह सुनिश्चित करना होगा कि संक्रमण के नए मामले सामने आने पर वे जल्दी से जल्दी उस पर प्रतिक्रिया दे सकेंगे.

Deutschland Bund-Länder-Konferenz im Video-Chat

वीडियो कॉन्फ्रेंस में भाग ले रहे ब्रांडेनबुर्ग के मुख्यमंत्री डीटमार वोइदके

बुंडेसलीगा के फुटबॉल मैच मई के मध्य से ही शुरु करने का फैसला लिया गया है. मैच के दौरान स्टेडियम में खेल प्रेमी मौजूद नहीं रहेंगे लेकिन घर बैठे टीवी पर लोग इसका आनंद ले पाएंगे. इसी तरह सभी गैरपेशेवर लीग के खेलों और बच्चों के बाहर खेलने पर से भी रोक हट जाएगी. यूनिवर्सिटी अभी बंद रहेंगी लेकिन स्कूल के सभी बच्चे बारी बारी करके चरणों में स्कूल जा सकेंगे. केवल बड़े पैमाने पर भीड़भाड़ वाला कोई त्योहार मनाने या कंसर्ट करने पर लगी रोक अगस्त के अंत तक बरकरार रहेगी.

संक्रमण के हर दिन हजार मामले

इसी के साथ कोविड-19 महामारी से निपटने की जो कोशिशें जर्मनी में राष्ट्रीय स्तर पर चल रही थीं, उनमें बदलाव आ गया है. जमीनी हकीकत यह थी कि देश के 16 राज्यों में से कई चांसलर के साथ इस फैसले पर पहुंचने से पहले से ही बीते हफ्तों में अपने अपने स्तर पर तमाम छूटें देने लगे थे. जर्मनी में केंद्र और राज्य की शक्तियों के बीच साफ विभाजन होने के कारण ऐसा संभव हो पाया था लेकिन इस अभूतपूर्व संकट की घड़ी में इन्हें आजमाने को लेकर देश में बहस चल रही थी.

हाल के दिनों में जर्मनी में रोजाना नए संक्रमणों की तादाद औसतन 1,000 के आसपास बनी हुई है. कुल मिलाकर कोरोना वायरस से जर्मनी में अब तक करीब 165,000 संक्रमण के मामले और लगभग 7,000 मौतें दर्ज हुई हैं. मार्च से मध्य से लगे प्रतिबंधों में छूट देने की शुरुआत 20 अप्रैल से ही हो गई थी और अब पाबंदियों में छूट की नई लहर का भी एलान हो गया है.

आरपी/एमजे (डीपीए, रॉयटर्स)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री