1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

दो साल बादः विपक्षी जमकर तो मोदी रमकर बोले

विपक्ष ने बीजेपी सरकार पर हमला किया तो नरेंद्र मोदी ने विपक्ष को नहीं बख्शा. लेकिन बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने तो प्रधानमंत्री को ही लपेट लिया. सरकार के दो साल पूरे होने पर सब जमकर बोले हैं.

Indien Wahlen 2014 BJP Narendra Modi

16 मई 2014 को नरेंद्र मोदी

अपनी सरकार के पांच साल पूरे होने के मौके पर भारत के प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी ने सरकारी डॉक्टरों की रिटायरमेंट की आयु 60 या 62 से बढ़ाकर 65 वर्ष करने का ऐलान किया है. साथ ही उन्होंने डॉक्टरों से अनुरोध किया कि हर महीने के नौवें दिन वह गरीब गर्भवती महिलाओं का मुफ्त इलाज करें और उन्हें मुफ्त दवा दें.

बीजेपी सरकार ने सत्ता में दो साल पूरे कर लिए हैं. इस मौके पर देशभर में बड़े पैमाने पर समारोह आयोजित किए गए हैं. इंडिया गेट पर पांच घंटे लंबा एक कार्यक्रम इसका हिस्सा है. लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी सरकार का जन्मदिन मनाने के लिए उत्तर प्रदेश को चुना जहां अगले साल चुनाव होने हैं. सहारनपुर में एक रैली में प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार की उपलब्धियां और भविष्य की योजनाएं बताईं. मोदी ने कहा, "2022 में जब भारत अपनी आजादी के 75 साल मना रहा होगा, तब तक हम गरीबों और किसानों की आय दोगुनी कर देना चाहते हैं."

सहारनपुर में मोदी ने कहा कि उनके काम की जांच-पड़ताल बहुत तीखी होती है. उन्होंने कहा, ''आप जानते हैं कि मेरे काम की जांच-पड़ताल कैसी तीखी होती है. अगर मेरी सरकार कुछ गलत कर दे तो टीवी चैनलों पर 24 घंटे दिखाया जाता है. लेकिन मैं इस पड़ताल को अच्छा मानता हूं. सरकारों को एक-एक दिन, एक-एक पैसे के लिए जवाबदेह होना चाहिए.''

विपक्ष ने दो साल पूरे होने के मौके पर केंद्र सरकार पर तीखे हमले किए हैं. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विज्ञापनों के खर्च पर सवाल उठाया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि दो साल का जश्न मनाने के लिए एक दिन में एक हजार करोड़ रुपये खर्चे गए हैं. कांग्रेस नेताओं ने भी सरकार पर हमले बोले. मोदी सरकार के सबका साथ सबका विकास नारे पर ताना कसते हुए कांग्रेस ने नारा दिया, किसका साथ, कहां है विकास. कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा, "सरकार के दो साल पूरे होने का जश्न क्यों मनाया जा रहा है? इन दो सालों में ऐसा क्या हुआ है जिस पर खुशी मनाई जाए? क्या लोगों को नौकरियां मिली हैं? क्या किसानों को 50 फीसदी ज्यादा मिलने लगा है? क्या देश में सुरक्षा है?"

नरेंद्र मोदी ने भी अपनी रैली में विपक्ष पर सीधा हमला बोला. उन्होंने कहा कि पिछली सरकार का पैसा कहां खर्च होता था, कुछ पता नहीं. मोदी ने कहा, "दो साल पहले खबरों में बस घोटाले रहते थे. इतनी लूट मची थी. क्या लोगों को सत्ता में इसलिए भेजा गया था कि वे जनता को लूट लें? पता नहीं पिछले सरकार ने पैसा कहां खर्च किया है. हमारी सरकार पिछली सरकार से रोज दोगुनी लंबी सड़क बना रही है."

मोदी ने बोलते वक्त यूपी चुनावों को भी ध्यान में रखा. देश की गन्ना बेल्ट में उन्होंने गन्ना किसानों की बात की. उन्होंने कहा, "हमने गन्ने से इथेनॉल बनाने की योजना बनाई है. इसका गन्ना किसानों को लाभ मिलेगा. आज पुरुषों के मुकाबले महिलाएं कम हो गई हैं क्योंकि बेटियों को गर्भ में ही मार दिया जाता है. इसलिए हमने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम चलाया है. आजादी के बाद से महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए इतना बड़ा कोई कदम नहीं उठाया गया."

उधर बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने भी दो साल पूरे होने के मौके पर सरकार को आड़े हाथों लिया है. अपने मुखपत्र सामना में सेना ने प्रधानमंत्री की लगातार होने वाली विदेश यात्राओं और उनकी कई योजनाओं पर सवाल उठाए हैं. शिवसेना ने कहा है कि प्रधानमंत्री को यह फैसला करना होगा कि उनका निवास देश के भीतर है या बाहर. सामना ने लिखा है, "दो साल में मोदी ने एक के बाद एक योजनाएं शुरू कर दी हैं. लेकिन लोगों को इनके बारे में पता तक नहीं है. पिछली सरकारें भी यही योजनाएं चला रही थीं बस उनके नाम अलग थे. और ये सारी योजनाएं भ्रष्टाचार में खो गईं."

विवेक कुमार

DW.COM

संबंधित सामग्री