1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

रियो में बनेगा महिला कॉन्डम का रिकॉर्ड

रियो ओलंपिक में कॉन्डम की संख्या सारे पिछले रिकॉर्ड तोड़ने वाली है. 10 हजार लोगों के लिए साढ़े चार लाख कॉन्डम उपलब्ध होंगे. और खास बात होगी महिला कॉन्डम, जो पहली बार उपलब्ध होंगे.

default

ऐसे होते हैं महिला कॉन्डम

ओलंपिक्स में रिकॉर्ड तो टूटते ही हैं. इस बार भी टूटेंगे. ये रिकॉर्ड्स सिर्फ मैदान पर नहीं उसके बाहर भी टूटने वाले हैं. मसलन, कॉन्डम्स का रिकॉर्ड. रियो में साढ़े चार लाख कॉन्डम बांटे जाएंगे. यह एक रिकॉर्ड होगा. यह संख्या लंदन ओलंपिक्स से तीन गुनी है.

इंटरनैशनल ओलंपिक कमेटी ने बताया है कि रियो में चार लाख 50 हजार कॉन्डम बांटे जाएंगे. इनमें एक लाख महिला कॉन्डम भी होंगे. ओलंपिक में महिला कॉन्डम पहली बार बांटे जाएंगे. इनके अलावा साढ़े तीन लाख पुरुष कॉन्डम बांटें जाएंगे. लुब्रिकेंट्स के एक लाख 75 पैकट भी सप्लाई किए जा रहे हैं.

इंटरनैशनल ओलंपिक कमेटी का कहना है कि कॉन्डम की उपलब्धता खिलाड़ियों और अधिकारियों को सुरक्षित सेक्स के लिए प्रेरित करेगी. ओलंपिक में हिस्सा लेने के लिए खिलाड़ियों और अधिकारियों को मिलाकर 10 हजार पांच सौ लोग पहुंचने वाले हैं. रियो ओलंपिक अगस्त में होंगे.

वैसे ब्राजील में जीका वायरस के प्रकोप को लेकर भी चिंताएं व्याप्त हैं. इसके चलते विभिन्न देशों ने कदम उठाए हैं, मसलन ऑस्ट्रेलिया अपने खिलाड़ियों को विशेष कॉन्डम उपलब्ध करा रहा है. (कैसे हैं ये विशेष कॉन्डम, जानने के लिए यहां क्लिक करें). लेकिन ओलंपिक कमेटी के कॉन्डम की संख्या बढ़ाने से जीका वायरस के प्रकोप का कोई संबंध है या नहीं, यह उजागर नहीं हो सका है. इस बारे में कमेटी से जानने की कोशिश की गई लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. ब्राजील के अखबार हालांकि कह रहे हैं कि इन दोनों बातों का आपस में कोई संबंध नहीं है. अखबार फोला डे एस पॉलो ने कहा कि कॉन्डम की संख्या बढ़ाने का जीका वायरस से कोई लेना-देना नहीं है.

जीका वायरस मच्छरों के काटने से फैलता है लेकिन सेक्स के जरिये भी यह एक शरीर से दूसरे शरीर में पहुंच सकता है. इस वायरस की वजह से यूं तो किसी प्रभावित व्यक्ति को कुछ नहीं होता है लेकिन होने वाले बच्चों पर इसका असर होता है. ऐसा देखा गया है कि इस वायरस से पीड़ित मांएं छोटे मस्तिष्क और छोटी खोपड़ी वाले बच्चों को जन्म देती हैं. इस बीमारी को माइक्रोफैली कहा जाता है. ब्राजील में तो इसकी वजह से प्रेग्नेंट महिलाओं को अबॉर्शन तक कराने की सलाह दी जा चुकी है.

रियो जाने वाले खिलाड़ियों को कॉन्डम बांटने का काम खेल गांव में बनाए गए क्लीनिक के जरिये किया जाएगा. ओलंपिक 5 अगस्त से शुरू होंगे लेकिन खेल गांव 24 जुलाई से ही खुल जाएगा. अखबार एस पॉला ने लिखा है कि वर्ष 2000 में सिडनी ओलंपिक में एक से डेढ़ लाख कॉन्डम बांटे गए थे. ओलंपिक खेलों के दौरान सेक्स के व्यापार में तेजी आना आम बात है. रियो में प्रॉस्टिट्यूशन को कानूनन इजाजत है. यह अनुमति वर्ष 2000 में ही मिली है.

वीके/आईबी (एपी)

DW.COM