1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को मिलेंगे खास कॉन्डम

ब्राजील में ओलंपिक से पहले जो बातें घमासान मचा रही हैं उनमें जीका वायरस का डर भी शामिल है. इससे बचने के लिए ऑस्ट्रेलिया ने तो अपने खिलाड़ियों के लिए खास तरह के कंडोम ही बनवा लिए हैं.

ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने के लिए जा रहे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को खास तरह के कंडोम दिए जाएंगे. ओलंपिक खेल ब्राजील के रियो में होने हैं. ऑस्ट्रेलिया अपने खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर फिक्रमंद है, इसलिए उन्हें खास तरह के कंडोम देगा. ये जीका वायरस से लगभग पूर्ण सुरक्षा देंगे.

ऑस्ट्रेलियाई ओलंपिक कमिटी ने सोमवार को ऐलान किया कि अगस्त में होने वाले खेलों में खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिए क्या-क्या कदम उठाए गए हैं. ऑस्ट्रेलियाई दल की प्रमुख किटी चिलर की ओर से जारी बयान में कहा गया, “रियो में एक हम एक गंभीर समस्या का सामना कर रहे हैं. इससे निपटने के लिए कॉन्डम बांटना एक व्यवहारिक हल है.”

ओलंपिक 15 से 21 अगस्त तक रियो डे जेनेरो में होंगे. मध्य और दक्षिण अमेरिका में जीका वायरस महामारी का रूप ले चुका है. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ने इसे अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य आपातकाल घोषित कर दिया है.

विशेषज्ञों के मुताबिक जीका वायरस से ज्यादातर लोगों को मामूली बीमारी होती है. काफी लोगों में तो इसके लक्षण नजर भी नहीं आते. लेकिन इसका असर पैदा होने वाले बच्चों पर होता है. वे छोटे सिरों के साथ पैदा होते हैं.

इस वायरस से घबराई ऑस्ट्रेलियाई ओलंपिक कमिटी ने अपने खिलाड़ियों को ऐसे कॉन्डम देने का फैसला किया है जो जीका वायरस से विशेष सुरक्षा देंगे. इन्हें स्टारफार्मा होल्डिंग्स और आन्सेल कंपनियों ने मिलकर बनाया है. ये दोहरी सुरक्षा देंगे. एक तो जीका वायरस को शरीर में प्रवेश करने से रोकेंगे और इन पर लगा खास तरह का ऐंटिवायरल लुब्रिकेंट सेक्स के जरिए ट्रांसमिट होने वाले विषाणुओं से बाहर ही भिड़ जाएगा.

स्टारफार्मा ने अपने बयान में कहा है कि उनके लुब्रिकेंट ने जीका वायरस के खिलाफ प्रतिरोध दिखाया है. कंपनी के मुताबिक लैब में किए गए परीक्षणों में यह लुब्रिकेंट जीका के खिलाफ कारगर रहा.

जीका से अपने खिलाड़ियों को बचाने के लिए बाकी देश भी सुरक्षा उपाय कर रहे हैं. इनमें अमेरिका भी शामिल है जिसका ओलंपिक दल सबसे बड़ा होता है. अमेरिका की ओलंपिक कमिटी ने एक विशेष दल बनाया है, जो ब्राजील जा रहे खिलाड़ियों और अधिकारियों को जागरूक और सचेत रखेगा. सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल के कैप्टन मार्टिन एस सेट्रन भी इस दल में शामिल हैं.

इसी सेंटर ने हाल ही में गर्भवती महिलाओं को सलाह दी थी कि वे ओलंपिक खेलों के दौरान ब्राजील न जाएं. इन महिलाओं के पार्टनर्स को भी कहा गया है कि वे ब्राजील से लौटने के बाद प्रेग्नेंसी के दौरान या तो सेक्स न करें या फिर कॉन्डम का इस्तेमाल करें.

वीके/आईबी (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री