1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

तकनीक के लिहाज से अनोखा है रियो ओलंपिक

रियो ओलंपिक बहुत सारे मायनों में खास है. जैसे कि तकनीक का इस्तेमाल पहले से कहीं ज्यादा और अनोखा होगा. कंपनियां भी इसकी तैयारी कर चुकी हैं.

रियो ओलंपिक में जो जो देखने लायक होगा, वह सिर्फ खिलाड़ियों के करतबों तक सीमित नहीं होगा. इस बार का ओलंपिक नई-नई तकनीकों के लिए भी याद किया जाएगा. इस बार कई आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल रियो में देखने को मिलेगा, जिनमें वर्चुअल रियलिटी से लेकर वीसा पेमेंट रिंग तक शामिल हैं.

लंदन ओलंपिक को सिर्फ अमेरिका में 21.7 करोड़ लोगों ने टीवी पर देखा था. यह संख्या ऐतिहासिक थी और लंदन ओलंपिक अब तक का टीवी पर देखा जाने वाला सबसे बड़ा समारोह बन गया था. लेकिन संभावना जताई जा रही है कि रियो में यह रिकॉर्ड टूट जाएगा. लेकिन टीवी से ज्यादा ध्यान इंटरनेट पर रहेगा. इसे नई पीढ़ी का माध्यम मानकर तकनीकी कंपनियां अपनी विज्ञापन योजनाओं के साथ सामने आ गई हैं. सैमसंग और वीसा जैसी कंपनियां इनका पूरा इस्तेमाल करना चाहती हैं.

रियो में विवाद हुए विदा, बस खिलाड़ियों की अदा

वीसा पेमेंट रिंग

वीसा पिछले 30 साल से ओलंपिक को स्पॉन्सर कर रही है. समारोह का पेमेंट सिस्टम यही है. अब समारोह में जितनी भी दुकानें हैं, फिर चाहे वह सॉवेनियर शॉप हों या दूसरे स्टैंड, सब जगह नीयर-फील्ड-कम्यूनिकेशन नाम की तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है. इसे एनएफसी भी कहते हैं. इसके जरिये एप्पल पे, गूगल पे या सैमसंग पे जैसी मोबाइल पेमेंट सुविधाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है.

59 खिलाड़ी वीसा के पेमेंट रिंग पहने नजर आएंगे. इस रिंग से एक टैप के जरिये वे अपने अकाउंट रीचार्ज कर सकते हैं. यह वीसा के लिए भी अपनी टेस्टिंग का तरीका है. स्विमर मिसी फ्रैंकलिन और डेकाथेलीट ऐश्टन ईटन इस तकनीक की टेस्टिंग कर रहे हैं.

रियो की परियों से तो मिलिए

सैमसंग स्पेशन एडिशन

ओलंपिक का एक और स्पॉन्सर सैमसंग रियो में अपना स्पेशल ओलंपिक एडिशन गैलक्सी एस7 एज लॉन्च कर रहा है. 12,500 ओलंपियनों को यह फोन दिया जाएगा. इस पर ओलंपिक रिंग बने हैं और ओलंपिक थीम के वॉल पेपर भी हैं. कंपनी ने आम जनता के लिए भी ऐसे 2016 फोन बनाए हैं जो ब्राजील, अमेरिका और साउथ कोरिया में उपलब्ध हैं.

एक दिलचस्प चीज जो ध्यान खींच सकती है, वह जीतने के बाद खिलाड़ियों का अपने देश के झंडे की जगह फोन लहराना. दरअसल, फोन में एक फीचर है जिससे स्क्रीन पर खिलाड़ी के देश का झंडा दिखने लगेगा. अब कितने खिलाड़ी ऐसा करते हैं, देखने लायक होगा.

यह भी पढ़ें: रियो में बनेगा महिला कॉन्डम का रिकॉर्ड

टीवी पर ओलंपिक कवरेज के साथ साथ 360 डिग्री वीडियो और वर्चुअल रियलिटी कॉन्टेंट का भी बोलबाला होगा. अमेरिका में ओलंपिक के प्रसारण के अधिकार एनबीसी के पास हैं. उसने 85 घंटे की वर्चुअल रियलिटी की योजना बना रखी है. सैमसंग के गियर वीआर हेडसेट पर एनबीसी की स्पोर्ट्सऐप के जरिये इसे देखा जा सकेगा. उद्घाटन और समापन समारोह भी इस कवरेज में शामिल होंगे.

DW.COM