उत्तर कोरिया इलाके में विदेशी युद्धपोतों से क्यों परेशान | दुनिया | DW | 20.08.2021
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

उत्तर कोरिया इलाके में विदेशी युद्धपोतों से क्यों परेशान

दक्षिण कोरिया और अमेरिका इस महीने संयुक्त अभ्यास कर रहे हैं और जल्द ही एक ब्रिटिश युद्धपोत बुसान पहुंच रहा है. साथ ही अंतरराष्ट्रीय समुदाय प्योंगयांग पर संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का पालन करने का दबाव डाल रहा है.

ब्रिटिश युद्धपोत एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ और उसका बेड़ा 31 अगस्त को बुसान में पहुंचेगा

ब्रिटिश युद्धपोत एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ और उसका बेड़ा 31 अगस्त को बुसान में पहुंचेगा

दक्षिण कोरिया और अमेरिका इस महीने संयुक्त युद्ध अभ्यास शुरू कर रहे हैं और ब्रिटेन की रॉयल नेवी का सबसे शक्तिशाली युद्धपोत दक्षिण कोरियाई बंदरगाह बुसान में इस महीने के अंत तक पहुंच रहा है. इस कदम को उत्तर कोरिया ने क्षेत्र में शांति को खतरा बताते हुए इसकी कड़ी निंदा की है. दक्षिण कोरिया और अमेरिका ने उत्तर कोरिया को समझाने की कोशिश की कि यह कार्रवाई सिर्फ रक्षात्मक तरह की है और कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु हथियारविहीन करने और क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए उससे भी बातचीत के दरवाजे खुले हैं. लेकिन लगता है कि उत्तर कोरिया इन बातों से सहमत नहीं है.

दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्री चुंग युई यॉन्ग ने उत्तर कोरिया से कहा कि वो इस महीने की शुरुआत में सीमाओं की किलेबंदी को खोलने संबंधी फैसले पर अमल करे. दोनों देशों के बीच बातचीत फिर से शुरू करने के लिए सीमाओं को खोलने पर सहमति बनी थी. अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने सुझाव दिया है कि उत्तर कोरिया अंतरराष्ट्रीय समुदाय से बातचीत फिर से शुरू कर सकता है. उन्होंने संकेत दिया है कि बातचीत में कई तरह के विकल्प और संभावनाएं मौजूद हैं.

हालांकि उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया और अमेरिकी सैनिकों के संयुक्त के फैसले से नाराज़ हो गया है जो चार-दिवसीय संकट-प्रबंधन स्टाफ प्रशिक्षण अभ्यास के साथ शुरू होगा और उसके बाद 10-दिवसीय कंप्यूटर-सिम्युलेटेड कंबाइंड कमांड पोस्ट ट्रेनिंग ड्रिल होगी.

किम जोंग उन की करीबी सलाहकार और उनकी बहन किम यो जोंग ने एक अगस्त को सरकारी समाचार एजेंसी उरिमिनजोकिरी में जारी अपने बयान में कहा था कि यह "एक अप्रिय कहानी थी कि दक्षिण कोरियाई सेना और अमेरिकी सेना के बीच संयुक्त सैन्य अभ्यास निर्धारित समय के अनुसार आगे बढ़ सकता है." उन्होंने यह भी कहा था कि यह अभ्यास उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के संबंधों को नुकसान पहुंचा सकता है.

उत्तरकोरिया ने की युद्धपोत भेजने के लिए ब्रिटेन कीआलोचना

ब्रिटिश युद्धपोत एचएमएस क्वीन एलिजाबेथ और उसके साथ के बेड़े 31 अगस्त को बुसान पहुंचने वाले हैं. इस बात ने उत्तर कोरिया को और भड़का दिया है और उत्तर कोरिया ने इसकी निंदा करते हुए ग्रेट ब्रिटेन पर "गनबोट कूटनीति" और एशिया-प्रशांत मामलों में "अपनी नाक थपथपाने" का आरोप लगाया है. उत्तर कोरिया-यूरोप एसोसिएशन के एक अधिकारी, चो ह्योन डो के नाम पर उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के एक बयान ने ब्रिटेन पर इस क्षेत्र में तनाव बढ़ाने का आरोप लगाया. बयान में यह भी दावा किया गया कि ब्रिटेन "यूरोपीय संघ से अपने प्रस्थान के परिणामस्वरूप बहिष्कृत" होने के बाद अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अपनी प्रोफ़ाइल को ऊपर उठाना चाह रहा था.

बयान में कहा गया, "वह समय हमेशा के लिए चला गया जब ब्रिटेन ने दुनिया के देशों को 'गनबोट डिप्लोमेसी' से धमकाया और उन्हें अपनी मर्जी से उपनिवेश बना लिया. अपने राजनीतिक उद्देश्य के लिए जो कुछ भी चाहता है उसे हथियाने के लिए दूसरों पर आधारहीन रूप से चुनने के बजाय ब्रिटेन को ब्रेक्सिट के परेशानी के बाद के प्रभावों के साथ बेहतर चिंता थी."

ब्रिटिश बेड़ा सात महीने की वैश्विक तैनाती पर है और 6 अगस्त को प्रशांत महासागर के द्वीप गुआम के बंदरगाह पर पहुंचा. इसके साथ कई ब्रिटिश, अमेरिकी और डच युद्धपोत भी थे और यह ग्रुप सितंबर में जापान पहुंचने से पहले बुसान की यात्रा करने वाला है. ऐसा लगता है कि यह दक्षिण कोरियाई ठहराव है जिसने उत्तर कोरियाई शासन को विशेष रूप से नाराज़ किया है.

ट्रॉय यूनिवर्सिटी के सियोल कैंपस में अंतरराष्ट्रीय संबंधों के प्रोफेसर डेनियल पिंक्सटन कहते हैं, "यह उस तरह की भाषा है जिसका इस्तेमाल उत्तर कोरिया तब करता है जब वह उत्तेजित हो जाता है और उसे लगता है कि उसे पीछे धकेलना होगा. यह एक तरह की बयानबाजी है जिसे वे नियमित रूप से करते हैं और यह उनकी विश्वदृष्टि के अनुरूप है कि बाकी अंतर्राष्ट्रीय समुदाय आक्रामक है और उन्हें नष्ट करने के लिए दृढ़ है और इसलिए एकमात्र सहारा 'सही हो सकता है'."

पिंक्सटन कहते हैं, "उत्तर कोरिया के गुस्से के और भड़काने की आशंका थी क्योंकि ब्रिटेन उन 16 देशों में से एक था जो संयुक्त राष्ट्र कमांड फोर्स के लिए प्रतिबद्ध था, जिसने साल 1950 में दक्षिण कोरिया पर उत्तर कोरियाई आक्रमण का विरोध किया और फिर तीन साल का कोरियाई युद्ध लड़ा.

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा सुनिश्चित करना

जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका हाल के वर्षों में अन्य सरकारों से पूर्वोत्तर एशिया की सुरक्षा में बड़ी भूमिका निभाने का आह्वान कर रहे हैं. खासतौर पर सैन्य तैनाती के माध्यम से जो दक्षिण चीन सागर के एक विशाल क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों को दरकिनार कर चीन के अनुचित दावों और उत्तर कोरिया के प्रयासों को चुनौती देते हैं.

ब्रिटेन और फ्रांस के युद्धपोतों ने पहले से ही बहुराष्ट्रीय अभियानों में भाग लिया है, जो उत्तर कोरिया को प्रतिबंधित सामानों के आयात को जहाज-से-जहाज हस्तांतरण को रोकने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. इन सामानों में उत्तर कोरिया को जाने वाला ईंधन भी शामिल है. एक जर्मन युद्धपोत भी इस क्षेत्र की ओर बढ़ रहा है. ये प्रतिबंध संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों की एक श्रृंखला में लगाए गए हैं क्योंकि उत्तर कोरिया ने परमाणु हथियारों और लंबी दूरी की मिसाइलों के विकास को रोकने के लिए वार्ता को टालना जारी रखा है.

जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के राजनीतिक अर्थशास्त्री जून पार्क कहती हैं कि जब इस क्षेत्र में दूसरे देश सैन्य सामग्री तैनात कर रहे हैं तब उत्तर कोरिया के पास विरोध करने का कोई कारण नहीं है. उनके मुताबिक, "ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी के लिए यह हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपने सहयोगियों के साथ सहयोग करने और अपने स्वयं के हितों को विकसित करने का एक मौका है."

पार्क कहती हैं कि ब्रिटेन के पास इस इलाके में अपने झंडे गाड़ने के स्पष्ट रूप से आर्थिक और व्यापारिक कारण हैं क्योंकि वह 11 देशों के उस समूह में है जिसने ट्रांस-पैसिफिक पार्टनर व्यापारिक सौदे के लिए कंप्रेहेन्सिव एंड प्रोग्रेसिव एग्रीमेंट किया है. और जबकि बुसान की यात्रा का दक्षिण कोरिया के साथ व्यापार से कोई लेना-देना नहीं है, यह प्रदर्शित करने का काम करेगा कि इंडो-पैसिफिक सुरक्षा मामलों पर ब्रिटेन अमेरिका के साथ है.

क्या जर्मनी भी ऐसी ही बयानबाजी का निशाना बनेगा?

पार्क कहती हैं, "उत्तर कोरियाई स्थिति को देखते हुए, कोई यह सोचेगा कि उनके नेतृत्व के लिए उन सभी समस्याओं से निपटना अधिक महत्वपूर्ण होगा जिनका वे वर्तमान में सामना कर रहे हैं. पश्चिम के कुछ देशों में से एक के उत्तर कोरिया के साथ राजनयिक संबंध हैं." उत्तर कोरिया का लंदन में दूतावास है और ब्रिटेन का भी प्योंगयांग में दूतावास है, हालांकि कोरोना प्रतिबंधों की वजह से अभी यह बंद पड़ा है.

इस क्षेत्र में अन्य देशों की सुरक्षा और विदेश नीतियों की निंदा जर्मन युद्धपोत बायर्न के प्रशांत क्षेत्र की ओर रवाना होने के बीच आई है. युद्धपोत की उत्तर कोरिया की संयुक्त राष्ट्र समुद्री निगरानी में भागीदारी शामिल होगी. संभावित रूप से जर्मनी को भी उत्तर कोरिया इसीलिए इस तरह की बयानबाजी का निशाना बनाएगा. लेकिन पिंक्स्टन का मानना ​​​​है कि बयानबाजी ब्रिटेन की तुलना में कम कठोर होगी क्योंकि साल 1950 के दशक में कोरियाई युद्ध में जर्मनी ने सेना भेजने की प्रतिबद्धता नहीं जताई थी. जर्मनी उन देशों में से था जिन्होंने सेना नहीं भेजी थी.

DW.COM

संबंधित सामग्री