1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
चीन और जापान में अच्छी दोस्ती क्यों नहीं हुई
50 साल बीतने के बाद भी चीन और जापान की दोस्ती पक्की नहीं हो सकीतस्वीर: daniel0Z/Zoonar/picture alliance

चीन और जापान की दोस्ती कभी मजबूत क्यों नहीं हुई

२८ सितम्बर २०२२

कई दशकों तक एक दूसरे से लड़ने के बाद 50 साल पहले चीन और जापान के रिश्ते सामान्य हुए थे लेकिन फिलहाल दोनों देशों में से कोई भी इस मौके पर जश्न मनाने के मूड में नहीं दिख रहा है.

https://p.dw.com/p/4HTOd

एशिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं जापान और चीन के बीच अच्छे रिश्ते का होना इलाके में स्थिरता और समृद्धि के लिये बहुत जरूरी है. हालांकि सच्चाई यह है कि पूर्वी चीन सागर के द्वीपों को लेकर विवाद और इलाके में चीन की सैन्य और आर्थिक दबंगई दोनों का मनमुटाव और प्रतिद्वंद्विता बढ़ाती जा रही है.

विशेषज्ञों का कहना है कि चीन और जापान के बीच आने वाले कुछ वर्षों में रिश्तों के सुधरने की उम्मीद कम ही है. चीन और जापान के रिश्तों पर एशियाई मामलों के विशेषज्ञ डॉ राहुल मिश्र कहते हैं, "दुश्मनी का अभाव दोस्ती नहीं है. विश्वयुद्धों के दौरान और उससे पहले हुई घटनाएं चीन की जापान के साथ दोस्ती में असहजता की सबसे बड़ी वजहें हैं."

दोस्ती मजबूत क्यों नहीं हुई जानने से पहले दुश्मनी के कारणों को जान लेते हैं.  

चीन और जापान की दोस्ती
1972 में रिश्तों को सामान्य बनाने की संधि पर दस्तखत करते दोनों देशों के राजनेतातस्वीर: File/AP Photo/picture alliance

क्षेत्रीय विवाद

विवाद का एक बड़ा कारण रहे हैं जापान के नियंत्रण वाले पूर्वी चीन सागर के बियाबान द्वीप जिन पर चीन दावा करता है. जापान में इन्हें सेनकाकू और चीन में डिआयू कहा जाता है. कभी इन द्वीपों पर जापानी सीफूड की फैक्ट्रियां थीं और जापान इन्हें ऐतिहासिक रूप से और अंतरराष्ट्रीय कानूनों के मुताबिक अपना बताता है. उधर चीन का कहना है कि जापान ने इन द्वीपों को 1895 में चीन से छीन लिया था और दूसरे विश्वयुद्ध के खत्म होने के बाद इन्हें चीन को लौटाया जाना चाहिये था.

विवादित द्वीप के आसपास सागर में मछलियों की घनी आबादी होने के साथ ही तेल के भंडार भी मौजूद हैं. जापान का आरोप है कि 1969 में संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में सागर के नीचे संसाधनों की खबर आने के बाद अचानक चीन ने इलाके पर अपना दावा ठोक दिया.

1972 में दोनों देशों के बीच जब रिश्तों को सामान्य बनाने की संधि हुई तो उसमें इस मुद्दे पर कोई समझौता नहीं हुआ. 2012 में जापान ने सेनकाकू द्वीपों का राष्ट्रीयकरण करके इस मुद्दे को हवा दे दी. इसके बाद पूरे चीन में हिंसक प्रदर्शन हुए. चीन के तटरक्षक बल और मछली पकड़ने वाली नावों का इन इलाकों के चक्कर लगाने शुरू कर दिये और नियमित रूप से जापानी जल सीमा का उल्लंघन होने लगा.

चीन और जापान के बीच दोस्ती क्यों नहीं हुई
सेनकाकू द्वीप पर जापान का नियंत्रण है और चीन इस पर दावा करता हैतस्वीर: picture-alliance/ dpa

ताईवान में आपातकाल का डर

जापान अपने सुरक्षा सहयोगी अमेरिका के साथ दक्षिण चीन सागर में चीन की बढ़ती गतिविधियों की आलोचना करता है. जापान ताइवान जलडमरूमध्य में शांति और स्थिरता के लिये दबाव बना रहा है. स्वायत्तशासी लोकतांत्रिक ताइवान पर चीन दावा करता है और ताकत का इस्तेमाल कर उसे अपने साथ मिलाने की धमकी देता है.

अमेरिका और चीन के बीच कारोबारी जंग और इलाके में नौसैनिक तनाव बढ़ने के बाद ताइवान में आपातकालीन स्थिति को लेकर जापान की आशंकाएंबढ़ गई है. जापानी तटों के पास रूस के साथ चीन के युद्धाभ्यासों ने भी उसे नाराज किया है. जापान अपनी सेनाओं को दक्षिण पश्चिमी जापान की ओर ले जा रहा है इनमें ओकिनावा और ताइवान के पूर्व में मौजूद दूरदराज के द्वीप भी शामिल हैं.

अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा पर विरोध जताने के लिये ताइवान के आसपास के इलाकों में चीन ने अगस्त में युद्धाभ्यास किये. ओकिनावा के पास पांच बैलिस्टिक मिसाइलें भी दागी गईं. ताइवान को लेकर युद्ध की आशंका में जापान ने अपनी सैन्य क्षमता तेजी से बढ़ानी शुरू कर दी है. इसके लिए बजट भी बढ़ाया गया है और राष्ट्रीय सुरक्षा नीति की भी समीक्षा हो रही है. इसके जरिये पहले से हमला करने की क्षमताएं विकसित करने को भी शामिल किया जा सकता है जो जापान के मौजूदा संविधान का उल्लंघन होगा.

चीन और जापान की दोस्ती क्यों नहीं हुई
ताइवान के आसपास उड़ान भरते चीन की सेना के हैलीकॉप्टरतस्वीर: Hector Retamal/AFP

युद्ध का इतिहास

दोनों देशों ने आपस में युद्ध लड़ा है. इसकी शुरुआत 1930 में हुई और अंत 1945 में जापान की हार के बाद. चीन और जापान के युद्ध में जापानी जुल्मों की दास्तान लंबी है. इनमें नानकिंग के बलात्कार के साथ ही रासायनिक और जैविक हथियारों का इस्तेमाल भी शामिल है. इसके अलावा मंचूरिया में इंसानों पर कई तरह के प्रयोग भी किये गये. जापान ने करीब 40 हजार चीनी मजदूरों को जापानी खदानों और फैक्ट्रियों में काम करने पर मजबूर किया. इनमें से ज्यादातर कुपोषण और दुर्व्यवहार के कारण मर गये.

1972 की संधि में चीन ने युद्ध के लिये मुआवजे की मांग छोड़ दी. विशेषज्ञों का कहना है कि इसके बदले जापान की ओर से माफी और चीन को एकमात्र वैध सरकार के रूप में मान्यता देने की बात थी. हालांकि जापान ने पिछले चार दशकों में चीन को कुल 25 अरब अमेरिकी डॉलर की विकास सहायता दी है.

राहुल मिश्र का कहना है कि चीन और जापान के बीच में जो दरार है वो दक्षिण कोरिया की कंफर्ट वीमन जैसा मामला नहीं है जो एक या दो घटनाओं पर टिका हो. इसके साथ ही डीडब्ल्यू से बाचतीत में मिश्र ने यह भी कहा, "चीन की कम्युनिस्ट पार्टी लगातार जापान का विरोध करती आई है और इस विरोध के आधार पर देश में अपनी स्थिति मजबूत करती है. चीन और जापान के रिश्तों में सहजता तभी संभव है जब पार्टी सत्ता से दूर हो जो फिलहाल तो संभव नहीं दिखता."

चीन और जापान अच्छे दोस्त क्यों नहीं बन सके
नानकिंग हत्याकांड और बलात्कार का स्मारकतस्वीर: Koki Kataoka/AP Images/picture alliance

यासुकुनी श्राइन

चीन टोक्यो के यासुकुनी श्राइन को जापान के युद्ध के दौर में सैन्यवाद के प्रतीक के रूप में देखता है. यह स्मारक युद्ध में मारे गये 25 लाख लोगों के सम्मान में बनाया गया है इनमें युद्ध अपराधी भी शामिल हैं. इस जगह जापानी सांसदों और मंत्रियों के दौरे को चीन युद्ध के दौरान जापान की तरफ से चीन पर हुई ज्यादतियों के प्रति संवदेनहीनता के रूप में देखता है. दक्षिण कोरिया के साथ चीन नियमित रूप से इस तरह के दौरों का विरोध करता है. दक्षिण कोरिया 1910 से 1945 तक जापानी उपनिवेश था.

आर्थिक सुरक्षा

अमेरिका का परम सहयोगी और चीन का प्रमुख कारोबारी साझीदार जापान एक जटिल स्थिति में है और दो ताकतवर देशों के बीच उसे संतुलन बनाये रखना होगा. चीन दूसरे देशों की सरकारों पर चीन के नेतृत्व में चल रही गतिविधियों में शामिल होने के लिये ज्यादा दबाव बनाता है. इसमें क्षेत्रीय स्तर पर विस्तृत आर्थिक साझेदारी के लिये बना एक समूह भी शामिल है. दूसरी तरफ जापान अमेरिका के साथ ऐसे तरीकों पर काम कर रहा है जिससे कि इलाके में चीन के आर्थिक असर को बढ़ने से रोका जा सके. चीन इलाके में दूसरे लोकतांत्रिक देशों के साथ आर्थिक सुरक्षा को भी मजबूत करना चाहता है. सप्लाई चेन और संवेदनशील तकनीक की सुरक्षा खासतौर से उसके एजेंडे में है.

चीन और जापान की दोस्ती के 50 वर्ष
जापान में चीनी दूतावास ने इस मौके पर एक कार्यक्रम आयोजित कियातस्वीर: Zhang Xiaoyu/Xinhua /picture alliance

पूर्व जापानी प्रधानमंत्री यासुओ फाकुदा चीन और जापान के बेहतर संबंधों के हिमायती हैं. उनका कहना है कि दोनों के बीच संघर्ष मोटे तौर पर चीन अमेरिका के कारोबारी तनाव की वजह से है. फुकुदा का कहना है, "सवाल यह है कि क्या वैश्विक कारोबार चीन को बाहर करने के बाद अच्छे से चल सकेगा."

एनआर/ओएसजे (रॉयटर्स)

संबंधित सामग्री को स्किप करें

संबंधित सामग्री

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

Grenzkonflikt China Indien

भारत-अमेरिका युद्धाभ्यास पर चीन को ऐतराज

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं