रिपोर्ट: अमेरिकी खुफिया जानकारी से यूक्रेन मार रहा है रूसी जनरल | दुनिया | DW | 05.05.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

रिपोर्ट: अमेरिकी खुफिया जानकारी से यूक्रेन मार रहा है रूसी जनरल

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि वॉशिंगटन ने रूस की अपेक्षित सैन्य गतिविधियों और उसके मोबाइल सैन्य मुख्यालय के बारे में स्थान व अन्य जानकारियां यूक्रेन को दी हैं. इसी मदद से कई रूसी जनरल मारे गए हैं.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारियों का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट छापी है जिसमें कहा गया है कि अमेरिका ने यूक्रेन को खुफिया जानकारी प्रदान की है. जानकारी की मदद से यूक्रेनी सेना ने कई रूसी जनरलों को मारा है.

अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक वॉशिंगटन ने रूस की अपेक्षित सैन्य गतिविधियों और रूस के मोबाइल सैन्य मुख्यालय के बारे में स्थान और रियल टाइम डेटा उपलब्ध कराया है. अमेरिका से मिल रही जानकारी के साथ यूक्रेन अपनी खुफिया जानकारी को मिलाकर उसका प्रयोग रूसी जनरलों को निशाना बनाने के लिए कर रहा है.

इसके बाद यूक्रेनी सेना रूसी जनरलों पर हमला करने के लिए उनके मोबाइल सैन्य मुख्यालय पर आर्टिलरी गन से हमला करती है. इस मुद्दे पर पेंटागन और व्हाइट हाउस ने रॉयटर्स द्वारा पूछे गए सवालों का तुरंत जवाब नहीं दिया है.

युद्ध में मारे गए 12 रूसी जनरल

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक यूक्रेनी अधिकारियों ने कहा कि उन्होंने युद्ध के मैदान में लगभग 12 रूसी जनरलों को मार डाला है. अखबार ने बताया है कि अमेरिकी अधिकारियों ने यह बताने से इनकार कर दिया कि अमेरिकी खुफिया जानकारी की मदद से कितने जनरल मारे गए.

भारत और फ्रांस ने की यूक्रेन युद्ध रोकने की साझा अपील

क्रेमलिन के अधिकारी ने मारियोपोल का दौरा किया

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के कार्यालय में डिप्टी चीफ ऑफ स्टाफ सर्गेई किरिएंको ने यूक्रेनी शहर मारियोपोल का दौरा किया, जो लगभग पूरी तरह से रूसी सेना के कब्जे में है. दोनेत्स्क के अलगाववादी नेता डेनिस पुशिलिन ने दौरे की घोषणा टेलीग्राम पोस्ट पर की. किरिएंको रूस के पूर्व प्रधानमंत्री हैं. उनके वर्तमान पोर्टफोलियो में घरेलू राजनीति शामिल है.

इस बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति ने संयुक्त राष्ट्र से अजोव्स्ताल स्टील प्लांट में फंसे नागरिकों को निकालने का रास्ता खोजने में मदद करने का आह्वान किया है. रूस ने कहा है कि वह संघर्ष विराम और निकासी के लिए एक सुरक्षित मार्ग के लिए तैयार है. कुछ सैन्य विशेषज्ञों का कहना है कि अगले कुछ दिनों में मारियोपोल शहर पूरी तरह से रूसी नियंत्रण में हो जाएगा.

बिना रूसी तेल के क्या यूरोप चल पायेगा

जर्मनी में 6,00,000 से अधिक यूक्रेनी शरणार्थी

प्रवासन और शरणार्थियों के लिए जर्मन संघीय कार्यालय का कहना है कि 24 फरवरी को यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद से छह लाख से अधिक यूक्रेनी नागरिक जर्मनी आ चुके हैं. कुल यूक्रेनी शरणार्थियों में से लगभग 40 फीसदी नाबालिग हैं.

एए/वीके (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM