1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
इमानुएल माक्रों (बाएं) और व्लादीमीर पुतिन (दाएं) बैठक के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान.
इमानुएल माक्रों (बाएं) और व्लादीमीर पुतिन (दाएं) बैठक के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान.तस्वीर: Thibault Camus/Pool AP/dpa/picture alliance

माक्रों ने कुछ यथार्थवादी सुझाव दिएः पुतिन

८ फ़रवरी २०२२

फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों से हुई बातचीत के बाद रूस के राष्ट्रपति ने कहा है कि कुछ सुझाव ऐसे आए हैं जिन पर भविष्य में मिलकर काम करने के बारे में सोचा जा सकता है.

https://p.dw.com/p/46euj

सोमवार को फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुएल माक्रों ने मॉस्को में रूसी नेता व्लादीमीर पुतिन से मुलाकात की. यह मुलाकात तब हुई है जब पश्चिमी देशों को आशंका है कि रूस यूक्रेन पर हमला करने वाला है. और रूस भी अपनी एक लाख से ज्यादा फौज यूक्रेन की सीमा पर जमा करके पश्चिमी देशों से मांगें मनवाने पर अड़ा है.

बातचीत में माक्रों ने पुतिन से कहा कि उम्मीद है उनकी यह मुलाकात यूक्रेन संकट से बढ़े तनाव को कम करने में मददगार साबित होगी. बैठक की शुरुआत में ही माक्रों ने कहा, "यह चर्चा उस दिशा में कदम बढ़ाने की शुरुआत हो सकती है, जिस ओर हम जाना चाहते हैं, यानी तनाव कम करने की ओर.”

युद्ध टालने की उम्मीद

माक्रों ने युद्ध टालने की और "परस्पर भरोसे, स्थिरता और सबको नजर आने वाले तत्व” बनाने की उम्मीद भी जताई. पुतिन के साथ बैठक के बाद माक्रों ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्होंने ‘ठोस सुरक्षा गारंटी' देने वाले कुछ प्रस्ताव पेश किए हैं.

माक्रों ने कहा, "राष्ट्रपति पुतिन ने मुझे भरोसा दिलाया कि वह इस दिशा में विमर्श को लेकर तैयार हैं और यूक्रेन की स्थिरता और क्षेत्रीय संप्रभुता बनाए रखना चाहते हैं.” माक्रों ने कहा कि हालांकि मतभेद बने हुए हैं लेकिन दोनों के बीच कई साझा तत्व भी नजर आए हैं.

दोनों नेताओं के बीच संकट के सबसे अहम बिंदू यानी यूक्रेन की नाटो सदस्यता को लेकर भी चर्चा हुई. माक्रों ने पुतिन से कहा कि किसी देश के नाटो की सदस्यता ग्रहण करने के अधिकार छीनने से यूरोप में नई सुरक्षा व्यवस्था बनाने का मकसद कामयाब नहीं हो सकता.

पुतिन ने क्या कहा?

व्लादीमीर पुतिन ने कहा कि यूरोप में सुरक्षा को लेकर रूस और फ्रांस की साझा चिंताएं हैं और फ्रांस ने बरसों से यूक्रेन विवाद हल करने की दिशा में काम किया है. रूसी नेता ने कहा कि माक्रों के साथ बातचीत लाभदायक रही जिसमें ठोस चर्चा हुई. उन्होंने यह भी कहा कि माक्रों के कुछ सुझाव ‘यथार्थवादी' हैं और भविष्य में मिलकर कदम उठाने का आधार बन सकते हैं.

पुतिन ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि यूक्रेन की स्थिति को शांतिपूर्ण ढंग से सुलझाया जा सकता है. उन्होंने कहा, "रूस पश्चिम के साथ समझौते की भरपूर कोशिश करेगा.” हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि मिंस्क समझौतों का कोई विकल्प नहीं है और यूक्रेन को उनका सम्मान करना चाहिए.

साथ ही पुतिन ने चेतावनी भी दी कि अगर यूक्रेन नाटो की सदस्यता ग्रहण करता है तो और क्रीमिया को वापस लेने की कोशिश करता है तो यूरोपीय देशों को रूस के साथ सैन्य संघर्ष झेलना होगा. उन्होंने कहा कि ऐसे संघर्ष में जीत किसी की नहीं होगी.

यूक्रेन की सीमा के पास फौज के जमावड़े को लेकर हो रही रूस की आलोचना पर उन्होंने कहा, "नाटो सदस्य हमारे क्षेत्र में हमारी सेना की गतिविधियों पर हमें भाषण देते हैं और उसे यूक्रेन पर रूस के हमले का खतरा बताते हैं.” उन्होंने नाटो पर आरोप लगाया कि वे यूक्रेन की सेना को हथियार और प्रशिक्षण के जरिए सैन्य ढांचे को रूस की सीमा के नजदीक ला रहे हैं.

वीके/सीके (एएफपी, डीपीए, रॉयटर्स, इंटरफैक्स)

जब रूस और यूक्रेन के बीच मैर्केल ने की मध्यस्थता

इस विषय पर और जानकारी को स्किप करें

इस विषय पर और जानकारी

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

यूरोप-अमेरिका के बीच चिप निर्माता कंपनियों को लुभाने की होड़

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं