ट्विटर ने यूजर की सहमति के बिना डाटा शेयर किया | दुनिया | DW | 07.08.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

ट्विटर ने यूजर की सहमति के बिना डाटा शेयर किया

माइक्रो ब्लॉगिंक साइट ट्विटर ने बताया है कि उसने बिना यूजर्स की सहमति के उनका डाटा विज्ञापन बनाने वाली कंपनियों से साझा किया है. यूजर्स के डिवाइस के इंटरफेस का डाटा भी ट्विटर ने बिना अनुमति साझा किया है.

6 अगस्त को ट्विटर ने एक ब्लॉग पोस्ट लिखकर बताया कि उसने बिना यूजर्स की इजाजत लिए कुछ डाटा विज्ञापन देने वाली कंपनियों के साथ साझा किया है. ट्विटर ने कहा कि यूजर्स ने अपने डाटा को सुरक्षित रखने के लिए अपेक्षित सेटिंग कर रखी होंगी लेकिन उन सेटिंग के बावजूद यूजर का डाटा साझा किया गया है. उन्होंने कहा कि ऐसा तकनीकी कारणों के चलते हुआ है और अब उन तकनीकी कारणों को सही कर दिया गया है. साथ ही इस मामले की जांच के लिए जांच समिति गठित की गई है.

ट्विटर हेल्प सेंटर पर 6 अगस्त को 'ऐड को लेकर आपकी सेटिंग में परेशानी' हेडिंग के साथ एक ब्लॉग ट्विटर की ओर से लिखा गया. इस ब्लॉग में लिखा है,"ट्विटर अपने यूजर्स को अपना डाटा निंयत्रित करने का अवसर देना चाहता है. ये निंयत्रण तब भी काम करता है जब हम आपके डाटा को ऐड देने वाली कंपनियों के साथ साझा करते हैं. लेकिन पिछले कुछ समय में यह आपकी सेटिंग्स के मुताबिक नहीं हुआ है. इसके दो परिणाम हो सकते हैं."

ट्विटर के मुताबिक अगर मई, 2018 के बाद आपने ट्विटर की ऐप में कोई ऐड देखा और उस पर क्लिक किया तो ट्विटर ने आपका कुछ डाटा जैसे कंट्री कोड, आपने कब वो ऐड देखा और कब उस ऐड पर क्लिक किया, अपने कुछ ऐड देने वाले सहयोगियों के साथ साझा किया हो सकता है. चाहे आपने सेटिंग में ट्विटर को ऐसा करने की अनुमति ना दी हो. सितंबर 2018 से ट्विटर एक प्रक्रिया पर काम कर रहा है जिसमें वो अपने यूजर को उसकी दिलचस्पी के मुताबिक ऐड दे सके. इसलिए ट्विटर ने आपके द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे डिवाइस के इंटरफेस को देखकर आपकी दिलचस्पी के मुताबिक ऐड दिखाए हैं. भले ही आपने अपने इंटरफेस का इस्तेमाल करने की अनुमति ट्विटर को नहीं दी हो.

Logos App Twitter Facebook Google (picture-alliance/xim.gs)

ट्विटर के अलावा फेसबुक और गूगल पर भी लग चुके हैं आरोप.

हालांकि ट्विटर का कहना है कि इस डाटा में आपके ईमेल या पासवर्ड जैसी चीजें शामिल नहीं हैं. ये सारा डाटा ट्विटर के पास सुरक्षित है. ट्विटर का कहना है कि इस समस्या को 5 अगस्त को दूर कर दिया गया है. ट्विटर ये जांच करवा रहा है कि इसके चलते कितने लोग प्रभावित हुए हैं. ट्विटर ने कहा है कि अगर कोई और जरूरी जानकारी सामने आती है तो वह भी अपने यूजर के साथ साझा करेगा. ट्विटर ने लोगों से इस समस्या के लिए माफी मांगी है और कहा है कि वो पूरी कोशिश करेगा कि भविष्य में किसी भी यूजर का डाटा बिना उसकी अनुमति के इस्तेमाल ना किया जाए.

गौरतलब है कि दुनिया की सबसे बड़ी सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक पर भी लगातार डाटा चोरी के आरोप लगते रहते हैं. हाल में निजता के उल्लंघन के मामले में अमेरिका में फेसबुक पर 5 अरब डॉलर का जुर्माना लगा था. कैंब्रिज एनालिटिका का मामला सामने आने के बाद से लगातार सोशल मीडिया वेबसाइटों पर निजता से जुड़े मामलों के सवाल उठते रहे हैं. हर देश की सरकार भी इसको लेकर अपने नियम कानूनों को सख्त कर रही है. हाल में गूगल असिस्टेंट वाले उपकरणों द्वारा भी गूगल पर लोगों की बातें सुनने का आरोप लगा था.

आरएस/एनआर(रॉयटर्स)

_____________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | 

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन