अमेरिकी रक्षा बजट में 54 अरब डॉलर का इजाफा चाहते हैं ट्रंप | दुनिया | DW | 28.02.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

अमेरिकी रक्षा बजट में 54 अरब डॉलर का इजाफा चाहते हैं ट्रंप

अमेरिका के रक्षा बजट में 54 अरब डॉलर की भारी वृद्धि होगी. राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की सरकार ने बजट की जो रूपरेखा तैयार की है, उसके तहत विदेशों को जाने वाली मदद और घरेलू कार्यक्रमों में कटौती कर यह रकम जुटाई जाएगी.

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप देश के रक्षा बजट में "ऐतिहासिक" वृद्धि चाहते हैं, लेकिन अमेरिकी कांग्रेस में डेमोक्रेट्स और रिपब्लिकन सांसद इस कदम का विरोध कर रहे हैं. बजट उन्हें ही पास करना है.

ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस में राज्यों के गवर्नरों की एक बैठक में कहा, "हम कम संसाधनों से ज्यादा काम करने जा रहे हैं और सरकार को लोगों के प्रति झुकाव रखने वाली और जवाबदेह बना रहे हैं." उन्होंने कहा, "जो धन हम खर्च करते हैं, उससे बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं."

उन्होंने कहा, "हम बुनियादी ढांचे पर बहुत ज्यादा खर्च करने जा रहे हैं. ऐसा नहीं है कि हमारे पास कोई विकल्प है- हमारे हाइवे, हमारे पुल और सुरंगें असुरक्षित हैं." मंगलवार को राष्ट्रपति ट्रंप पहली बार कांग्रेस को संबोधित करने जा रहे हैं जिसमें वह चुनाव अभियान के दौरान उठाए गए आर्थिक मुद्दों की बात करेंगे और अपनी आर्थिक तथा विदेश नीति को स्पष्ट करेंगे.

किसका कितना रक्षा बजट है, जानिए

बजट प्रस्ताव से जुड़े मामलों की जानकारी रखने वाले अधिकारियों का कहना है कि जिन विभागों में कटौती हो सकती है, उनमें पर्यावरण संरक्षण एजेंसी, विदेश मंत्रालय और विदेशी मदद होगी. मार्च के महीने में इस बारे में ज्यादा ब्यौरा सामने आएगा.

नाम न जाहिर करने की शर्त पर एक अधिकारी ने बताया, "मोटे तौर पर ज्यादातर संघीय एजेंसियों को कटौती का सामना करना पड़ सकता है. और विदेशों को दी जाने वाली मदद में भारी कटौती होगी."

उधर, व्हाइट हाउस के बजट डायरेक्टर माइक मुलवाने का कहना है कि ट्रंप वही कर रहे हैं जिसका वादा उन्होंने चुनावों में किया था. उनके मुताबिक, "बजट की प्राथमिकताओं में सेना को नए सिरे से खड़ा करना अहम है, जिसमें हमारी परमाणु क्षमताओं को बहाल करना भी शामिल है. साथ ही राष्ट्र की रक्षा और सीमाओं को सुरक्षित बनाने पर जोर है. उन कानूनों को लागू किया जाएगा जो सिर्फ किताबों में कैद हैं."

किसके पास कितने एटम बम

दूसरी तरफ रक्षा बजट बढ़ाने के ट्रंप के इरादों की आलोचना भी शुरू हो गई है. बजट को रोकने की ताकत रखने वाले डेमोक्रेट्स इसे लेकर खासे आक्रामक हैं. सीनेट में डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता चक शुमर ने कहा है, "बजट की रूपरेखा से इतना साफ है कि ट्रंप चुनावों में किए गए अपने वादों को तोड़ रहे हैं. वह उन कार्यक्रमों में कटौती करने जा रहे हैं जिनसे मध्य वर्ग को फायदा होता है."

वहीं रिपब्लिकन प्रतिनिधि माइक सिम्पसन का कहना है कि घरेलू कार्यक्रमों में कटौती को जनता का समर्थन नहीं मिलेगा. उन्होंने कहा, "बहुत सारे लोग होंगे जिनके हित इन कार्यक्रमों से जुड़े हैं. हमारी सरकारी को रक्षा के अलावा और भी बहुत कुछ करना है."

एके/एमजे (एएफपी, एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री