दुर्व्यवहार की वजह से सोशल मीडिया से दूर हो रही हैं लड़कियां | दुनिया | DW | 05.10.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

दुर्व्यवहार की वजह से सोशल मीडिया से दूर हो रही हैं लड़कियां

22 देशों की लड़कियों के साथ किए गए अध्ययन में पाया गया कि 60 फीसदी लड़कियों को सोशल साइट पर दुर्व्यवहार या उत्पीड़न झेलना पड़ा. लड़कियों पर हमले फेसबुक पर आम है. उसके बाद इंस्टाग्राम, व्हाट्सऐप और स्नैपचैट का नंबर है.

ऑनलाइन दुर्व्यवहार और उत्पीड़न के कारण लड़कियां सोशल मीडिया छोड़ने को मजबूर हो रही हैं. यह तथ्य एक सर्वे में सामने आया है. सोशल मीडिया को लेकर किए गए अध्ययन में कहा गया कि 58 प्रतिशत से अधिक लड़कियों ने किसी ना किसी प्रकार के दुर्व्यवहार का सामना किया है. इस सर्वे को प्लान इंटरनेशनल ने कराया है और इसमें 14,000 लड़कियां, जिनकी उम्र 15-25 वर्ष के बीच हैं शामिल की गईं. सर्वे ब्राजील, अमेरिका और भारत समेत 22 देशों की लड़कियों के बीच कराया गया. संस्था का कहना है कि उसने इस सर्वे के लिए गहन साक्षात्कार भी किए हैं.

सबसे ज्यादा फेसबुक पर दुर्व्यवहार

सोशल मीडिया पर महिलाओं पर हमले की घटनाएं आम बात हैं. फेसबुक पर हमले की घटनाएं सबसे आम थीं, जहां 39% महिलाओं ने कहा कि उन्हें उत्पीड़न का सामना करना पड़ा. वहीं इंस्टाग्राम पर 23 फीसदी, व्हाट्सऐप पर 14 फीसदी, स्नैपचैट पर 10 फीसदी, ट्विटर पर 9 फीसदी और टिक टॉक पर 6 प्रतिशत महिलाओं ने दुर्व्यवहार या उत्पीड़न का अनुभव किया है.

DW Im Ring mit Nalan

सोशल मीडिया पर महिलाओं को सहना पड़ता है अपमान.

अध्ययन में पाया गया कि इस तरह के हमलों के कारण हर पांच लड़कियों में से एक ने सोशल मीडिया साइट का इस्तेमाल या तो बंद कर दिया या फिर सीमित कर दिया. सोशल मीडिया पर निशाने पर आने के बाद हर दस लड़कियों में से एक ने सोशल मीडिया पर अपने आपको जाहिर करने के तरीके में बदलाव कर लिया. सर्वे में शामिल 22 फीसदी लड़कियों ने कहा है कि वे या फिर उनकी दोस्तों को शारीरिक हमले को लेकर भय था.

सर्वे में शामिल लड़कियों ने बताया कि सोशल मीडिया पर हमले के सबसे सामान्य तरीके में अपमानजनक भाषा और गाली शामिल है. 41 फीसदी लड़कियों ने कहा कि उद्देश्यपूर्ण शर्मिंदगी ने उन्हें प्रभावित किया जबकि बॉडी शेमिंग और यौन हिंसा के खतरों ने 39 फीसदी लड़कियों को प्रभावित किया. इसी तरह से जातीय अल्पसंख्यकों पर हमले, नस्लीय दुर्व्यवहार और एलजीबीटी समुदाय से जुड़ी लड़कियों का उत्पीड़न बहुत अधिक था.

प्लान इंटरनेशनल की सीईओ ऐनी-बिर्गिट्टे अल्ब्रेक्टसेन के मुताबिक, "इस तरह के हमले शारीरिक नहीं होते हैं लेकिन वे अक्सर लड़कियों की अभिव्यक्ति की आजादी के लिए खतरा होते हैं और उनको सीमित करते हैं." ऐनी कहती हैं कि लड़कियों को ऑनलाइन हिंसा का खुद ही सामना करने के लिए छोड़ दिया जाता है.

फेसबुक और इंस्टाग्राम का कहना है कि वे दुर्व्यवहार से जुड़ी रिपोर्ट की निगरानी करते हैं और परेशान करने वाली सामग्री की पहचान कर कार्रवाई करते हैं. ट्विटर का भी कहना है कि वह ऐसी तकनीक का इस्तेमाल करता है जो अपमानजनक सामग्री की पहचान कर सके और उसे रोक सके. हालांकि इस अध्ययन ने दुरुपयोग को रोकने में रिपोर्टिंग करने वाली तकनीक को अप्रभावी पाया.

एए/सीके (थॉमसन रॉयटर्स फाउंडेशन)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन