बांग्लादेश के रिफ्यूजी कैंपों में बच्चे | ताना बाना | DW | 23.10.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

बांग्लादेश के रिफ्यूजी कैंपों में बच्चे

अगस्त 2017 से म्यांमार से 600,000 रोहिंग्या मुसलमान भागकर बांग्लादेश पहुंचे हैं. उनमें आधे से ज्यादा बच्चे हैं. संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि उन्हें साफ पानी, खाना और सोने की जगह देने के लिए 45 करोड़ यूरो की जरूरत है.

दुनिया में कहां-कहां बसे हैं रोहिंग्या मुसलमान

रोहिंग्या मुसलमानों के मसले पर संयुक्त राष्ट्र समेत पूरी दुनिया म्यांमार के रुख पर सवाल उठा रही है. भारत में तो रोहिंग्या मुसलमानों का मामला न्यायालय तक पहुंच गया है. एक नजर उन देशों पर जहां रोहिंग्या मुसलमान रहते हैं. 

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन