हिट रहे ओलंपिक में सहवाग के ′छक्के′ | खेल | DW | 25.08.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

हिट रहे ओलंपिक में सहवाग के 'छक्के'

भारत का मजाक उड़ाने वाले ब्रिटिश पत्रकार के ट्वीट का वीरेंद्र सहवाग ने करारा जवाब दिया है. उनके ट्वीट्स यूं भी आजकल हिट हो रहे हैं.

वीरेंद्र सहवाग को कुछ हो गया है. कुछ खराब नहीं, अच्छा ही कुछ हुआ है लेकिन कुछ तो हो गया है. वह छक्के पर छक्का जड़ रहे हैं, ट्विटर के मैदान पर. उनके ट्विटर हैंडल से एक से बढ़कर एक धांसू, जोरदार और मजेदार ट्वीट्स आ रहे हैं. हर ट्वीट पर चर्चा हो रही है, खबर बन रही है. खासकर ओलंपिक के दौरान तो वीरू ने ऐसे छक्के लगाए कि हर कोई देखता रह गया. पहले सबसे ताजा मामला. वीरू ने भारत का मजाक उड़ाने वाले ब्रिटिश पत्रकार को करारा जवाब दिया.

ब्रिटिश पत्रकार पियर्स मॉर्गन ने भारत के दो मेडल्स का मजाक उड़ाते हुए ट्वीट किया था. उन्होंने ताना मारा था कि सवा अरब लोगों का देश दो हारे हुए मेडल्स का जश्न मना रहा है, कितने शर्म की बात है.

जाहिर है, भारतीयों को यह बात काफी चुभी और लोगों ने ट्विटर पर कई तरह से जवाब दिया लेकिन सहवाग का जवाब एकदम मार्के का था. उन्होंने लिखा, "हम तो छोटी-छोटी बातों का भी जश्न मनाते हैं. लेकिन इंग्लैंड, जिसने क्रिकेट ईजाद किया, आज तक वर्ल्ड कप नहीं जीत पाया है. और अब भी वर्ल्ड कप में खेलता है. कितने शर्म की बात है?"

भारत के पूर्व टेस्ट क्रिकेटर और विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का यह जवाबी ट्वीट फौरन वायरल हो गया. दो ही घंटे में इसे 5,000 से ज्यादा बार रीट्वीट किया गया. मॉर्गन ने भी जवाबी हमला किया. उन्होंने लिखा कि अगर केविन पीटरसन इंग्लैंड के लिए खेल रहे होते तो हम वर्ल्ड कप जीत जाते.

सहवाग इस पर भी चुप नहीं बैठे. उन्होंने फिर जवाब दिया और इस बार तो मॉर्गन को बोल्ड कर दिया. उन्होंने लिखा, "इसमें तो कोई शक नहीं कि केपी एक लेजेंड हैं लेकिन वह तो साउथ अफ्रीका में जन्मे थे ना? और आपके लॉजिक के हिसाब से तो इंग्लैंड को 2007 में ही वर्ल्ड कप जीत जाना चाहिए था. हमारे लोगों के जश्न मनाने से क्या दिक्कत हो रही है."

वीरेंद्र सहवाग के ट्वीट्स आजकल खूब वायरल हो रहे हैं. ओलंपिक के दौरान उनके ट्वीट्स हिट रहे हैं.

लीजिए, लगे हाथ रियो की परियों से भी मिल लीजिए.

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन