सैन्य हमलों में नागरिकों की मौत बचाने के लिए अमेरिका ने उठाया कदम | दुनिया | DW | 28.01.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

सैन्य हमलों में नागरिकों की मौत बचाने के लिए अमेरिका ने उठाया कदम

अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने पेंटागन को युद्ध अभियानों में नागरिकों की मौत की संख्या को कम करने के लिए एक "कार्य योजना" विकसित करने का आदेश दिया है.

लॉयड ऑस्टिन ने दर्जनों नागरिकों के खिलाफ अमेरिकी सेना के बल प्रयोग की वैश्विक आलोचना के मद्देनजर गुरुवार को पेंटागन को सेना में सुधार करने का आदेश दिया और नागरिकों हताहतों से बचने को कहा है. ऑस्टिन ने पेंटागन के अधिकारियों को सैन्य अभियानों में नागरिक हताहतों को कम करने और अनुचित अभियानों से बचने के लिए एक योजना विकसित करने के लिए 90 दिनों का समय दिया है. उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान और इराक के अनुभवों से सीखने और संस्थागत तरीके से नागरिक हताहतों को कम करने के लिए सुधारों की जरूरत है.

ऑस्टिन के मुताबिक, "नागरिकों की सुरक्षा मूल रूप से अमेरिकी राष्ट्रीय हितों में प्रभावी, कुशल और निर्णायक उपयोग के अनुरूप है." अमेरिकी रक्षा मंत्री ने उन घटनाओं की एक श्रृंखला के बाद आदेश जारी किया है जिसमें अमेरिकी सैनिकों द्वारा नागरिकों को अनावश्यक रूप से मारने के लिए अमेरिका की तीखी आलोचना की गई थी.

पिछले साल अगस्त में अफगानिस्तान में ड्रोन हमले में सात बच्चों समेत कम से कम 10 नागरिक मारे गए थे. इसी तरह से मार्च 2019 में इराक में आईएसआईएस के खिलाफ युद्ध के अंतिम दिनों में अमेरिकी सैन्य बमबारी में लगभग 70 नागरिक मारे गए थे. न्यूयॉर्क टाइम्स में खबर छपने के बाद पेंटागन की तीखी आलोचना हुई थी.

अमेरिकी थिंक टैंक ने भी की आलोचना

इससे पहले पेंटागन ने इस मुद्दे पर अपने प्रस्ताव पेश करने के लिए एक थिंक टैंक, रैंड कॉर्पोरेशन को नियुक्त किया था. रिपोर्ट में प्रक्रियाओं की एक निंदात्मक तस्वीर पेश की गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि हमले की योजना बनाते समय अमेरिकी सेना दुश्मन पर बहुत ज्यादा ध्यान देती है, जो नागरिकों को पूरी तरह से नजरअंदाज कर देती है. रिपोर्ट में कहा गया कि इस समस्या से बचा जा सकता है.

रैंड कॉर्पोरेशन की रिपोर्ट में कहा गया है कि नागरिक हताहतों पर सेना की अपनी आंतरिक रिपोर्टिंग अविश्वसनीय और अधूरी हो सकती है. नागरिक हताहतों पर काम करने वाले अधिकारियों को अक्सर अपर्याप्त प्रशिक्षण और समर्थन का सामना करना पड़ता है. थिंक टैंक ने कहा कि अमेरिकी सेना को हवाई हमलों से नागरिक समाज को हुए नुकसान के बारे में व्यापक दृष्टिकोण रखने की जरूरत है. जिसमें न केवल हताहतों की संख्या बल्कि अन्य नागरिक बुनियादी ढांचे को भी नुकसान कम होना चाहिए, जो समुदायों और शहरों को चलाने के लिए आवश्यक हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि नागरिक हताहतों में अन्य कमियों के अलावा पेंटागन ने जांच के निष्कर्षों को अधिक व्यापक रूप से सार्वजनिक न करके गलतियों को दोहराने से बचने की अपनी क्षमता को कम कर दिया. यहां तक ​​कि घटना में शामिल लोगों ने भी अक्सर इन जांचों के नतीजे नहीं देखे, इसलिए वे घटनाओं से सीख नहीं ले सके.

मानवाधिकार समूह अमेरिकन सिविल लिबर्टीज यूनियन ने ऑस्टिन के इस कदम का स्वागत किया लेकिन सवाल किया कि क्या यह पर्याप्त है.

अपनी रिपोर्ट में रैंड कॉर्पोरेशन ने सिफारिश की कि अमेरिकी हमलों में मारे गए लोगों के परिवारों को दिए गए "मुआवजे" पर पुनर्विचार किया जाए. रिपोर्ट में कहा गया है कि कोई समान भुगतान नीति नहीं है प्रत्येक फील्ड कमांडर अपने विवेक पर निर्णय लेता है. कुछ पीड़ितों को भुगतान किया जाता है और कुछ को नहीं. रैंड का कहना है कि ऐसे मामले अफगानिस्तान में आम हैं.

एए/सीके (एएफपी, एपी)

DW.COM