नागरिकों की हत्या के बाद कश्मीर में सैकड़ों हिरासत में | भारत | DW | 11.10.2021
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

नागरिकों की हत्या के बाद कश्मीर में सैकड़ों हिरासत में

सोमवार को जम्मू-कश्मीर के पूंछ में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में सेना के पांच जवान मारे गए. मरने वालों में चार जवान और एक जेसीओ शामिल हैं. पिछले कई दिनों से कश्मीर में आम नागरिकों को निशाना बनाया जा रहा है.

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद पर सुरक्षाबलों ने कड़ी कार्रवाई करते हुए सैंकड़ों ऐसे संदिग्धों को हिरासत में लिया है जिनपर आतंकियों की मदद और सहानुभूति रखने का आरोप है. जम्मू-कश्मीर में पिछले दिनों आम नागरिकों की हत्याओं का दौर शुरू हुआ, जिसमें शिक्षक, रेहड़ी लगाने वाले और टैक्सी स्टैंड यूनियन के अध्यक्ष समेत कई बेगुनाहों को मार डाला गया.

पिछले एक हफ्ते में आतंकवादियों ने सात आम नागरिकों की हत्या की है. आम नागरिकों की हत्या के बाद सुरक्षाबलों ने कश्मीर में ऑपरेशन शुरू किया है. मरने वालों में कश्मीरी पंडित, सिख और मुस्लिम समुदाय के सदस्य थे. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक हिरासत में लिए गए लोगों में से कई के प्रतिबंधित जमात-ए-इस्लामी समूह के साथ संबंध होने का संदेह है या वे संदिग्ध ओवरग्राउंड वर्कर्स (ओजीडब्ल्यू) की लिस्ट में हैं जो कि दक्षिण कश्मीर के अन्य इलाके समेत श्रीनगर, गांदरबल और बड़गाम से आते हैं.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने नाम ना बताने की शर्त पर समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि हिरासत में लिए गए लोगों के आतंकवादी समूहों से संबंध होने का संदेह है. एक अधिकारी ने एएफपी को बताया, "हत्यारों को खोजने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी."

एएफपी ने अधिकारियों के हवाले से बताया कि कश्मीर में इस साल अब तक कुल 29 नागरिकों की गोली मारकर हत्या की गई है.

रविवार को राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने जम्मू-कश्मीर के 16 स्थानों पर छापेमारी की थी. यह छापेमारी वॉयस ऑफ हिंद के प्रकाशन और आईईडी की बरामदगी के मामले में की गई थी. वहीं श्रीनगर के 40 शिक्षकों को भी पूछताछ के लिए समन किया गया. वॉयस ऑफ हिंद पर भड़काऊ सामग्री प्रकाशित करने का आरोप है.

वीडियो देखें 02:18

कश्मीर के पैलेट पीड़ितों का दर्द

कश्मीर में आम नागरिकों की हत्या पर विपक्ष लगातार हमलावर बना हुआ है और वह हमलों को रोकने को लेकर प्रशासन को दोषी ठहराया रहा है.

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने हत्याओं की निंदा की है. उन्होंने आतंकवादियों को चेतावनी दी है कि हमलों में शामिल पाए जाने वालों को "मुंहतोड़ जवाब" दिया जाएगा.

इस बीच लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडेय, जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जीओसी) चिनार कॉर्प्स ने कहा कि ये हत्याएं निंदनीय हैं. रविवार को उन्होंने कहा, "मुझे भरोसा है कि कश्मीरी उन असामाजिक तत्वों को बेनकाब करेंगे जो कश्मीरी समाज को सांप्रदायिक आधार पर विभाजित करने की कोशिश कर रहे हैं."

उन्होंने कहा, "मैं नहीं मानता कि कश्मीर में हर कोई समान है. मुझे यह भी पूरा भरोसा है कि राष्ट्र विरोधी तत्वों को उजागर करने के लिए सभी धर्म के लोग एकजुट होकर खड़े होंगे."

लश्कर-ए-तैयबा समर्थित नए कश्मीरी आतंकी समूह द रेजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) के पिछले कुछ दिनों में लक्षित हत्याओं में हाथ होने का शक है.

रिपोर्ट: आमिर अंसारी (एएफपी से जानकारी के साथ)

DW.COM

संबंधित सामग्री