ना डीजल चाहिए और ना ही इलेक्ट्रिक | ताना बाना | DW | 05.07.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

ना डीजल चाहिए और ना ही इलेक्ट्रिक

डीजल इंजन अब उस तरह नहीं बिक रहे हैं, जैसे कभी बिकते थे. डीजल इंजनों को लेकर विवादों के चलते लोगों का भरोसा उनसे उठ गया है. लेकिन ग्राहक अभी इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने में भी दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं.

क्या संभव है पेट्रोल और डीजल के बिना जीना

जर्मनी की संसद के उपरी सदन ने 2030 से पेट्रोल और डीजल कारों को सड़क पर उतरने की अनुमति न देने का पक्ष लिया है. कार उद्योग इसे असंभव मानता है तो ग्रीन पार्टी ने इसका समर्थन किया है. क्या तकनीकी तौर पर ये संभव है.

 

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन