नासा के मिशन मून में पहली बार महिला रखेगी चांद पर कदम | दुनिया | DW | 22.09.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

नासा के मिशन मून में पहली बार महिला रखेगी चांद पर कदम

नासा ने 1972 के बाद पहली बार चांद पर मानव मिशन भेजने की योजना का खुलासा किया है. चांद के दक्षिणी ध्रुव पर यह पहला मानव मिशन होगा और यह महिला एस्ट्रॉनॉट के साथ भी पहला मून मिशन होगा.

नासा ने ऐलान किया है कि वह 2024 में चंद्रमा पर पहली महिला और एक पुरुष एस्ट्रॉनॉट को उतारने की योजना बना रहा है. 1972 के बाद पहली बार चांद पर नासा इंसान को भेज रहा है. नासा के प्रशासक के जिम ब्रिडेनस्टीन ने एक बयान में कहा, "हम चांद पर वैज्ञानिक खोज, आर्थिक लाभ और नई पीढ़ी के खोजकर्ताओं को प्रेरणा देने के लिए चांद पर दोबारा जा रहे हैं."

समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक इस परियोजना पर करीब 28 अरब डॉलर खर्च होगा. हालांकि अमेरिकी कांग्रेस से बजट को मंजूरी जरूरी है. चांद पर मिशन को लेकर राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप अपनी इच्छा जाहिर कर चुके हैं. पत्रकारों से बात करते हुए ब्रिडेनस्टीन ने कहा, "नासा 2024 में चांद पर लैंडिंग को लेकर सही दिशा में है, अगर क्रिसमस के पहले अमेरिकी कांग्रेस 3.2 अरब डॉलर की मंजूरी देती है."

इस मिशन का नाम अर्टेमिस है और यह कई चरणों में होगा. पहला चरण मानव रहित ओरियन स्पेसक्राफ्ट से नवंबर 2021 में शुरू होगा. मिशन के दूसरे और तीसरे चरण में एस्ट्रॉनॉट चांद के आस पास परिभ्रमण करेंगे और चांद की सतह पर उतरेंगे.

अपोलो 11 मिशन की तरह अर्टेमिस मिशन भी एक हफ्ते तक चलेगा और उस दौरान एस्ट्रॉनॉट एक हफ्ते तक चांद की सतह पर काम करेंगे. 1969 में अपोलो 11 मिशन के तहत पहली बार एस्ट्रॉनॉट चांद पर उतरे थे. अर्टेमिस मिशन अपोलो 11 मिशन से लंबा होगा और इसमें पांच के करीब "एक्ट्राव्हीकुलर एक्टिविटिस" होंगी.

नासा के मुताबिक चंद्रमा के अनछुए साउथ पोल पर अंतरिक्षयान की लैंडिंग करेगा. ब्रिडेनस्टीन ने कहा, "इसके अलावा किसी और चीज की चर्चा नहीं है." अपोलो 11 मिशन के तहत चंद्रमा की भूमध्य रेखा पर अंतरिक्ष यात्रियों की तरह नए अंतरिक्ष यात्री भी लैंड करेंगे, इन संभावनाओं को उन्होंने खारिज कर दिया है. ब्रिडेनस्टीन ने कहा, "यह मिशन के तहत जो वैज्ञानिक काम हम करेंगे वह पहले मिशन में किए गए कामों से बहुत अलग होगा. अपोलो मिशन के समय में हमें लगता था कि चांद सूखा है लेकिन अब हमें पता है कि चांद के साउथ पोल पर भारी मात्रा में पानी मौजूद है. "

इस वक्त तीन लूनर लैंडर के निर्माण के लिए परियोजनाएं चल रही हैं, जो अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाएगा. लैंडर की दावेदार ब्लू ओरिजिन अमेजन के संस्थापक जेफ बेजोस की कंपनी है, दूसरा लैंडर एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स बना रही है और तीसरी कंपनी जो रेस में शामिल है उसका नाम डाइनेटिक्स है.

एए/सीके (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन