फिलीपींस में सैकड़ों कैदियों की नग्न तस्वीरों पर हंगामा | दुनिया | DW | 02.03.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

फिलीपींस में सैकड़ों कैदियों की नग्न तस्वीरों पर हंगामा

फिलीपींस में एक जेल में नग्न बैठे सैकड़ों कैदियों की तस्वीरों को लेकर भारी विवाद हो रहा है. इन तस्वीरों ने फिलीपींस में राष्ट्रपति रोद्रिगो डुटेर्टे के ड्रग्स विरोधी अभियान को फिर सवालों में ला लिया है.

ये तस्वीरें चेबु प्रांत की एक जेल की हैं. जेल के अधिकारी रफाएल एस्पीना ने एएफपी को बताया कि मंगलवार को कैदी सूरज उगने से पहले ही जगा दिए गए और उनकी कोठरियों की तलाशी ली गई. इस दौरान कैदियों को नग्न अवस्था में एक बड़े से अहाते में बिठाया गया था.

ये तस्वीरें फिलीपींस की ड्रग प्रवर्तन एजेंसी और प्रांतीय पुलिस ने जारी की हैं. एजेंसी का कहना है कि इस तलाशी के दौरान कैदियों की कोठरियों से मेथामफेटामाइन ड्रग के "कई पैकेट" और गांजे की पत्तियां, चाकू और मोबाइल फोन मिले हैं.

लेकिन कैदियों की नग्न तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं. मानवाधिकार संगठनों ने इन्हें लेकर अपनी नाराजगी जताई है. एक बयान में एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा है, "यह घटना कैदियों के प्रति क्रूरता, अमानवीयता और दुर्व्यवहार को दर्शाती है."

ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार ऐसी तलाशी की अनुमति नहीं जिससे कैदी प्रताड़ित हो या उनकी प्राइवेसी भंग होती हो. संस्था ने एक बयान में कहा है, "इस तरह की तलाशी, फोटो लेना और कैदियों के साथ दुर्व्यहार उनके निजता के अधिकार का उल्लंघन है."

फिलीपींस की ड्रग प्रवर्तन एजेंसी के प्रवक्ता डेरिक केरोन का कहना है कि कैदियों को प्रांतीय गवर्नर और गार्डों के आदेश पर नग्न किया गया. उन्होंने कहा, "हमने सिर्फ तकनीकी रूप से मदद की."

चेबु प्रांत की यह जेल 2007 में उस समय बहुत सुर्खियों में रही जब एक यूट्यूब वीडियो में यहां के कैदियों को माइकल जैक्सन के "थ्रिलर" गीत पर डांस करते दिखाया गया था.

राष्ट्रपति डुटेर्टे ड्रग्स अपराधों के खिलाफ सख्त अभियान चला रहे हैं, जिसके तहत पिछले आठ महीनों में पुलिस और अज्ञात हमलावरों ने हजारों लोगों को मारा है. एमनेस्टी इन मौतों को इंसानियत के खिलाफ अपराध बताती है. लेकिन राष्ट्रपति डुटेर्टे का कहना है कि जब हम समाज को बर्बाद कर ड्रग्स अपराध जैसे बड़े मुद्दों से निपट रहे हैं तो मानवाधिकारों की चिंता छोड़नी होगी.

एके/ओएसजे (एएफपी)

DW.COM

विज्ञापन