1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
मंकीपॉक्स का असर
मंकीपॉक्स का असरतस्वीर: Getty Images/CDC
स्वास्थ्यउत्तरी अमेरिका

अमेरिका के 27 राज्यों में मंकीपॉक्स बीमारी

२२ जुलाई २०२१

अमेरिका में एक हफ्ते के भीतर मंकीपॉक्स के 200 से ज्यादा मामले सामने आए हैं. लागोस से अटलांटा और फिर वहां से डलास एयरपोर्ट, तेजी से फैलने वाली यह बीमारी नाइजीरिया से अमेरिका इसी तरह पहुंची.

https://p.dw.com/p/3xpby

16 जुलाई 2021 को अमेरिकी राज्य टेक्सास में किसी इंसान में मंकीपॉक्स का पहला मामला सामने आया. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक मंकीपॉक्स से संक्रमित शख्स नाइरिया से अमेरिका लौटा था. रोगी को तब से डलास के अस्पताल में आइसोलेशन में रखा गया है. उसकी हालत स्थिर है.

इसके हफ्ते भर बाद अमेरिका में मंकीपॉक्स के 200 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. इंसान से इंसान में फैलने वाली यह बीमारी 27 राज्यों तक फैल चुकी है. अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने लोगों की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग शुरू कर दी है.

डलास एयरपोर्ट
डलास एयरपोर्टतस्वीर: picture-alliance/AP Photo/T. Guiterrez

संक्रमितों की तलाश

मंकीपॉक्स से पीड़ित इंसान, 8 जुलाई को नाइजीरिया के सबसे बड़े शहर लागोस ने अटलांटा आ रही फ्लाइट में सवार हुआ. इसके अगले दिन, 9 जुलाई को उसने अटलांटा से डलास की फ्लाइट ली. सीडीसी के मुताबिक एयरलाइन कंपनी, प्रांतीय और स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ मिलकर रोगी के संपर्क में आने वाले सभी लोगों की तलाश की जा रही है.

सीडीसी के मुताबिक, कोरोना के कारण दोनों फ्लाइटों में मास्क पहनना अनिवार्य था. इस कारण मंकीपॉक्स के सांस के जरिए विमान या एयरपोर्ट में फैलने की संभावना कम है. डर इस बात का है कि एयरपोर्ट के जरिए यह बीमारी पूरे अमेरिका और दुनिया के बाकी हिस्सों में भी फैल सकती है.

गाम्बिया मेें चूहे से कुत्ते में और कुत्ते से इंसान में फैला मंकीपॉक्स
गाम्बिया मेें चूहे से कुत्ते में और कुत्ते से इंसान में फैला मंकीपॉक्सतस्वीर: AP

क्या है मंकीपॉक्स

मंकीपॉक्स जानवरों से इंसान में फैली एक दुर्लभ बीमारी है. इंसान में पहली बार इस बीमारी का पता 1970 में डेमोक्रैटिक रिपब्लिक कॉन्गो में चला. इसके बाद पश्चिमी अफ्रीका के कुछ देशों में भी इसके मामले सामने आए. अफ्रीका के बाहर 2001 से 2019 के बीच अमेरिका, ब्रिटेन, इस्राएल, सिंगापुर में भी मंकीपॉक्स के कुछ मामले सामने चुके हैं.

मंकीपॉक्स वायरस सांस, छींक, आंख, मुंह या चोट के सहारे फैलता है. मंकीपॉक्स से संक्रमित होने पर बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, कमर में दर्द, नसों में सूजन, सर्दी लगना और थकान जैसे लक्षण सामने आते हैं. बुखार आने के एक से तीन दिन बाद शरीर में रेशे उभरने लगते हैं, फिर चकत्ते, फुंसी और फफोले उभरते हैं. अंत में पपड़ी जमने से वह ठीक भी हो जाते हैं. आम तौर पर मंकीपॉक्स को ठीक होने से में दो से चार हफ्ते लगते हैं. इस बीमारी की चपेट में आने वालों की मृत्यु दर 10 फीसदी है.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स, एपी)

 

संबंधित सामग्री को स्किप करें

संबंधित सामग्री

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

Pakistan Premierminister Imran Khan

इमरान खान के लिए तंग हुआ आगे का रास्ता

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं