रॉय जोन्स जूनियर से लड़ने रिटायरमेंट से लौटेंगे माइक टायसन | खेल | DW | 24.07.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

खेल

रॉय जोन्स जूनियर से लड़ने रिटायरमेंट से लौटेंगे माइक टायसन

हैवीवेट चैंपियन माइक टायसन सितंबर में अमेरिका के लॉस एंजेलेस में रॉय जोन्स जूनियर से मुकाबला करेंगे. 54 साल के टायसन को आखिरी बार 15 साल पहले रिंग में देखा गया था.

माइक टायसन ने रिटायरमेंट से लौटने का फैसला किया है. उन्होंने घोषणा की है कि वे 12 सितंबर को लॉस एंजेलेस में होने वाले आठ-राउंड के मुकाबले में हिस्सा लेंगे. उनके सामने होंगे रॉय जोन्स जूनियर जो खुद 51 साल के हैं. टायसन ने स्पोर्ट्स चैनल ईएसपीएन से बात करते हुए कहा, "यह मुकाबला कमाल का होगा." क्योंकि टायसन और जोन्स दोनों की ही उम्र 50 से ऊपर है, इसलिए कैलिफोर्निया राज्य के नियमों के अनुसार उन्हें मैच के दौरान हेलमेट पहनना होगा.

इस मैच के खतरों को ले कर भी खूब चर्चा हो रही है लेकिन टायसन ने चोट लगने के खतरे को खारिज करते हुए मैच के रोमांच पर ध्यान केंद्रित करने को कहा है, "हम दोनों पेशेवर खिलाड़ी हैं. हम जानते हैं कि हमें अपनी रक्षा कैसे करनी है. हमें कुछ नहीं होगा." हालांकि यह एक फ्रेंडली मैच होगा लेकिन टायसन ने कहा कि दोनों खिलाड़ी इसे पूरी संजीदगी से खेलेंगे, "हम अपने कौशल का पूरा इस्तेमाल करेंगे और अच्छी तरह लड़ेंगे. रिंग में आपको 100 फीसदी माइक टायसन दिखेगा."

शोहरत, जेल, विवाद

टायसन मात्र 20 साल की उम्र में हैवीवेट चैंपियन बन गए थे. 1987 से 1990 के बीच उन्होंने एक भी मैच नहीं हारा. ऐसा कहा जाने लगा था कि बॉक्सिंग की दुनिया में टायसन को हराने वाला कोई मौजूद ही नहीं है. लेकिन 1990 में बस्टर डगलस के सामने उन्हें पहली बार हार का स्वाद चखना पड़ा. इसके दो साल बाद टायसन को बलात्कार का दोषी पाया गया और उन्हें छह साल की जेल की सजा सुनाई गई. तीन साल जेल में बिताने के बाद उन्हें पैरोल पर रिहा कर दिया गया.

USA Boxen Mike Tyson gegen Evander Holyfield 1997 (picture-alliance/dpa)

गुस्से में टायसन ने होलीफील्ड का कान काट डाला था

इसके बाद उन्होंने 1997 में रिंग में वापसी की. एवेंडर होलीफील्ड के साथ उनके इस मैच ने दुनिया भर में सुर्खियां बटोरी क्योंकि उन्होंने गुस्से में होलीफील्ड का कान काट डाला था. इस बर्ताव के लिए ना केवल उन्हें डिसक्वॉलिफाई किया गया, बल्कि उन पर 18 महीने का प्रतिबंध भी लगा. 1999 में एक बार फिर वे रिंग में उतरे. इस बार उनके सामने थे फ्रांसोआ बोथा. यह खेल भी विवादों में घिरा. गुस्से में टायसन ने बोथा की बाजू तोड़ने की कोशिश की थी.

विवादों का सिलसिला यूं ही चलता रहा. उन पर कई बार जुर्माने लगे. 2002 में उनके पास एक बड़ा मौका आया. उन्हें ब्रिटेन के लेनोक्स लुईस के खिलाफ लड़ना था. टायसन कई मौकों पर लुईस के खिलाफ बयानबाजी कर चुके थे. ऐसे में डर था कि यहां भी वे कोई बड़ा विवाद खड़ा कर देंगे. लेकिन टायसन यह मुकाबला हार गए और उन्होंने अपनी हार को स्वीकारा भी और लुईस की तारीफ भी की. तब उनकी उम्र 35 साल थी. 2006 में उन्होंने बॉक्सिंग से संन्यास ले लिया. और अब करीब 15 साल बाद उन्हें एक बार फिर रिंग में देखा जाएगा.

उनके विपरीत जोन्स ने अपना आखिरी मैच 2018 में खेला था और उसे जीता भी था. बॉक्सिंग प्रेमियों के लिए इस मैच के रोमांच से भरपूर होने की उम्मीद जताई जा रही है.

आईबी/एए (डीपीए, एएफपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore