यूरोप के बीचोबीच शरणार्थी कैंप | ताना बाना | DW | 27.09.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

यूरोप के बीचोबीच शरणार्थी कैंप

यूरोपीय संघ अपनी शरणार्थी नीति तय करने में लगा है तो सैकड़ों शरणार्थी ब्रसेल्स के पार्क में धरना दिये बैठे हैं. सरकारी अधिकारियों की उपेक्षा की वजह से वॉलंटीयर उनकी मदद कर रहे हैं.

कैसे बना जर्मनी शरणार्थियों की पहली पसंद

जब शरणार्थी यूरोप का रुख कर रहे थे तब जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल ने इनके लिये "ऑपन डोर पॉलिसी" अपनाई. मैर्केल की नीति ने शरणार्थियों के लिए तो राह आसान की वहीं विरोधियों को राजनीतिक जमीन दे दी. 

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन