स्वीडन: पहली महिला प्रधानमंत्री ने पहले ही दिन दिया इस्तीफा | दुनिया | DW | 25.11.2021
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

स्वीडन: पहली महिला प्रधानमंत्री ने पहले ही दिन दिया इस्तीफा

सोशल डेमोक्रैट माग्दालेना आंदरजोन देश की पहली महिला प्रधानमंत्री तो बनीं लेकिन वह कुछ ही घंटे इस पद पर रह पाईं. 54 वर्षीय नेता का यह सफर इतना छोटा होगा, किसी ने नहीं सोचा था.

आंदरजोन को पहले ही दिन इस्तीफा देना पड़ा जब उनके सहयोगी दल ग्रीन्स पार्टी ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया.

आंदरजोन की छवि एक स्पष्टवादी नेता की है. खुद को वह एक ‘अच्छी और मेहनती महिला' बताती हैं लेकिन राजनीतिक गलियारों में उन्हें खरी-खरी बोलने वाली नेता के रूप में जाना जाता है. हाल ही में एक टीवी रिपोर्ट में उन्हें ‘बुलडोजर' कहा गया था जिस नाम की खूब चर्चा हुई.

ग्रीन्स पार्टी ने छोड़ा साथ

आंदरजोन को बुधवार को सत्तारूढ़ गठबंधन का नेता घोषित किया था. लेकिन गठबंधन के एक दल ने समर्थन वापस ले लिया जिसके बाद आंदरजोन का लाया बजट प्रस्ताव गिर गया. बाद में उन्होंने मीडिया को बताया, "मैंने स्पीकर को बताया दिया है कि मैं इस्तीफा दे रही हूं.”

वीडियो देखें 03:24

दलित महिलाओं को न्याय में देरी क्यों?

सरकार से समर्थन वापस लेने वाले दल ग्रीन्स पार्टी ने कहा कि वे "ऐसा बजट स्वीकार नहीं कर सकते जिसे अति-दक्षिणपंथियों के साथ मिलकर तैयार किया गया हो”

आंदरजोन ने कहा कि वह कोशिश करेंगी और उन्हें उम्मीद है कि वह दोबारा देश की प्रधानमंत्री बनेंगी. उन्होंने कहा, "यह संवैधानिक परंपरा है कि जब एक दल गठबंधन छोड़ देता है तो सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए. मैं ऐसी सरकार का नेतृत्व नहीं करना चाहती जिसकी संवैधानिक वैधता ही सवालों के घेरे में हो.”

एक मत से जीत

माग्दालेना आंदरजोन को बुधवार को प्रधानमंत्री चुना गया था क्योंकि स्वीडन में संविधान के तहत अगर किसी व्यक्ति के खिलाफ वोट करने वाले सांसदों की संख्या बहुमत में नहीं है तो वह प्रधानमंत्री बन सकता है.

स्वीडिश संसद रिक्सदाग के 349 सदस्यों में से 174 ने उनके खिलाफ वोट किया, जो कि बहुमत से कम थे. लेकिन एक तथ्य यह भी था कि 117 सांसदों ने ही आंदरजोन का समर्थन किया था और 57 गैरहाजिर रहे थे. इसलिए उन्हें एक मत से वोट मिली थी.

इस नियम के चलते सौ साल के इतिहास में पहली बार देश को एक महिला प्रधानमंत्री मिली थी. उनके चुने जाने पर सांसदों ने खड़े होकर उनका अभिवादन किया था. आंदरजोन के प्रधानमंत्री बनने से पहले स्वीडन ही एकमात्र नॉर्डिक देश था जहां अब तक कोई महिला प्रधानमंत्री नहीं रही थी.

वीडियो देखें 04:24

यूं हुई थी अंगेला मैर्केल की शुरुआत

जूनियर स्विमिंग चैंपियन रह चुकीं माग्दालेना आंदरजोन स्वीडन के उपासला शहर की रहने वाली हैं. 16 साल की उम्र में ही उन्होंने सोशल डेमोक्रैट पार्टी की सदस्या ली थी. उन्होंने अपना राजनीतिक करियर 1996 में तत्कालीन प्रधानमंत्री गोरान पेरसों की राजनीतिक सलाकार के रूप में शुरू किया था. उसके बाद सात साल तक वह देश की वित्त मंत्री रहीं.

एक सफल वित्त मंत्री के तौर पर अपनी छवि बनाने वालीं आंदरजोन ने ‘स्वीडन बेहतर कर सकता है' नारे के तहत चुनाव लड़ा था.

वीके/सीके (रॉयटर्स, एपी)

DW.COM