कजाखस्तान में क्रैश, विमान पर सवार थे 98 लोग | दुनिया | DW | 27.12.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

कजाखस्तान में क्रैश, विमान पर सवार थे 98 लोग

कजाखस्तान के अलमाटी एयरपोर्ट से उड़ान भरने के बाद विमान दो मंजिला इमारत से टकराया. विमान पर 93 यात्रियों समेत 98 लोग सवार थे.

बेक एयर के विमान ने कजाखस्तान के अलमाटी एयरपोर्ट से उड़ान भरी थी और स्थानीय समय के मुताबिक सुबह 7.22 बजे वह हादसे का शिकार हो गया. समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक अलमाटी एयरपोर्ट से उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद विमान एक इमारत से जा टकराया. विमान कजाखस्तान की राजधानी नूर-सुल्तान के लिए उड़ान भर रहा था और स्थानीय समय के मुताबिक सुबह 7.05 बजे उसका कंट्रोल रूम से संपर्क टूट गया.

जानकारी के मुताबिक घटना के वक्त विमान काफी नीचे उड़ रहा था, जिसके कारण विमान दो मंजिला इमारत से टकरा गया और क्रैश हो गया. स्थानीय प्रशासन और बचाव दल के सदस्य हादसे वाली जगह पर पहुंच कर मदद मुहैया करा रहे हैं. अधिकारियों का कहना है कि इस हादसे में 14 से अधिक लोगों की मौत हो गई जबकि 66 लोग घायल हो गए हैं.

अलमाटी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट प्रशासन ने फेसबुक पेज पर बयान जारी करते हुए कहा कि हादसे के बाद विमान में आग नहीं लगी और क्रैश होते ही रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया गया. हादसे वाली जगह पर बर्फबारी होने की वजह से बचाव दल को राहत कार्य में समस्या हो रही है. हालांकि करीब एक हजार लोगों को रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए लगाया गया है.

Flugzeugabsturz in Kasachstan (picture-alliance/dpa/AP/Emergency Situations Ministry of the Republic of Kazakhstan)

विमान का अगला हिस्सा दो मंजिला इमारत से टकराया.

हादसे के बाद राहत बचाव कार्य

वीडियो फुटेज में देखा जा सकता है कि विमान का अगला हिस्सा इमारत से टकराया है और पिछला हिस्सा जमीन पर गिरा पड़ा है. विमान की टक्कर के बाद इमारत का अगला हिस्सा आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गया है.

अधिकारियों ने इस हादसे के बाद सभी बेक एयर और फोक्कर-100 की उड़ानों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है. बताया जा रहा है कि विमान फोक्कर-100 कंपनी का है. यह कंपनी 1996 में दिवालिया हो गई थी जिसके बाद उसने विमान बनाने बंद कर दिए थे. 

कजाखस्तान के राष्ट्रपति कासम-जोमार्ट तोकायेव ने घटना पर दुख जताया है. उन्होंने हादसे का पता लगाने के लिए जांच समिति के गठन का ऐलान किया है. राष्ट्रपति ने कहा कि हादसे के लिए सभी जिम्मेदार लोगों को "कानून के मुताबिक सख्त सजा" दी जाएगी.

इसी साल मार्च में बेक एयर के फोक्कर-100 विमान ने राजधानी नूरसुल्तान के अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर आपात लैंडिंग की थी. उस वक्त विमान का लैंडिंग सिस्टम फेल हो गया था. हालांकि उस हादसे में विमान में सवार सभी यात्री और चालक दल के सदस्य सुरक्षित बच गए थे.

एए/एके (एएफपी, रॉयटर्स)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन