इस्राएली बच्चों की गणित सुधारने के लिए जारी हुए सोशल इंपैक्ट बॉन्ड | दुनिया | DW | 15.07.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

इस्राएली बच्चों की गणित सुधारने के लिए जारी हुए सोशल इंपैक्ट बॉन्ड

इस्राएल में सोशल इंपैक्ट इन्वेस्टमेंट बढ़ता जा रहा है. कंप्यूटर शिक्षा से गणित तक में बच्चों की रुचि बढ़ाने के लिए सोशल इंपैक्ट बॉन्ड जारी किए जा रहे हैं. निवेशकों को भी इसमें बहुत फायदा हो रहा है.

सोशल फाइनेंस इस्राएल (एसएफआई) नाम की एक संस्था ने बच्चों को गणित में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए सोशल इंपैक्ट बॉन्ड जारी किए हैं. इस प्रोग्राम का उद्देश्य राहत शहर में उच्च कक्षाओं में पढ़ रहे बच्चों की गणित में रुचि जगाना है. फिलहाल इस शहर में गणित पढ़ने वाले बच्चों की संख्या महज 15 प्रतिशत है. इस संख्या में होने वाली वृद्धि पर ही इस बॉन्ड का रिटर्न निर्भर करेगा.

एसएफआई रोनाल्ड कोहेन और यारोन न्यूडोर्फर द्वारा स्थापित किया गया एक एनजीओ है जो सरकार और व्यावसायिक संस्थाओं के साथ सकारात्मक सामाजिक माहौल बनाने का काम करता है. एसएफआई ने अब तक लगभग 85 करोड़ रुपये सोशल इंपैक्ट बॉन्ड के लिए जमा कर लिए हैं. इन्हें 'पे फॉर सक्सेज' प्रोजेक्ट के नाम से भी जाना जाता है. इसके अलावा एसएफआई ने मिजरही तेफाहोत बैंक सहित सात निवेशकों से सोशल इंपैक्ट बॉन्ड के जरिए 100 करोड़ से भी ज्यादा रुपये जमा किए हैं. इन पैसों को इस्राएल का शिक्षा मंत्रालय इस कार्यक्रम की सफलता के हिसाब से निवेशकों को वापस करेगा.

क्या है सोशल इंपैक्ट बॉन्ड

साधारण बॉन्ड में जब निवेशकर्ता बॉन्ड खरीदता है तो वो उसके लिए एक निश्चित राशि का भुगतान करता है. इसके बदले उसे निश्चित समय के बाद एक निश्चित दर का रिटर्न मिलता है. बॉन्ड जारी करने वाली संस्था निवेशक से मिले इस पैसे का निवेश अलग-अलग जगहों जैसे शेयर बाजार, जमीन खरीदने या किसी स्टार्ट अप में निवेश करने में इस्तेमाल करती है. इस निवेश से आने वाले पैसे में से अपना मुनाफा कमाने के बाद संस्था निवेशक को तय राशि वापस कर देती है.

सोशल इंपैक्ट बॉन्ड में रिटर्न की कोई गारंटी नहीं है. सोशल रिटर्न बॉन्ड में संस्था सामाजिक सरोकार के लिए बॉन्ड जारी करती है. इस बॉन्ड में निवेश करने वाले लोगों के पैसे के मूलधन की वापसी की भी कोई गारंटी नहीं होती. जिस सामाजिक सरोकार के लिए पैसा निवेश किया जाता है उसके परिणाम पर निर्भर करता है कि निवेशक को मूलधन भी वापस होगा या नहीं. अगर सामाजिक सरोकार का अच्छा नतीजा आता है तो मूलधन के साथ निवेशक को कुछ मुनाफा भी मिल जाता है.

बीमारी से लड़ने के लिए बॉन्ड

इस्राएल में इंपैक्ट इनवेस्टिंग का बाजार पिछले दो साल में दोगुना बढ़कर 2018 में पौने दो अरब रुपये की लगभग कीमत का हो गया है. 2016 में एसएफआई ने वित्तीय सेवाएं देने वाली यूबीएस के साथ मिलकर टाइप 2 की डायबिटीज को रोकने के लिए लगभग 40 करोड़ रुपये के बॉन्ड बेचे थे. प्री-डाइबिटीज को ध्यान में रखकर बनाया गया शुरुआती अभियान अब अपने दूसरे साल में है. इसके नतीजे 2019 के आखिर में पता चलेंगे.

एसएफआई के पहले बॉन्ड का उद्देश्य उच्च शिक्षा में कंप्यूटर विज्ञान के छात्रों के पढ़ाई अधूरी छोड़ने की दर को कम करना था. इन बॉन्ड्स की कीमत 17 करोड़ रुपये के लगभग थी. एसएफआई के सीईओ न्यूडोर्फर का कहना है कि इस प्रदर्शन के आधार पर लगता है कि निवेशकों को अपना पैसा लगभग चार प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर के मुनाफे के साथ मिल जाएगा. एसएफआई के आने वाले प्रोजेक्टों में बुजुर्गों का अकेलापन दूर करने का अभियान और बड़े परिवारों को गरीबी से बाहर निकालने का अभियान शामिल है. एसएफआई क्राउडफंडिग निवेशक आरक्राउड के साथ 240 करोड़ रुपये की कीमत का एक निवेश करने की योजना में है. ये निवेश सोशल इंपैक्ट से जुड़े काम करने वाले स्टार्टअप्स में होगा. पिछले साल ऐसे स्टार्ट अप्स ने 1.6 अरब डॉलर का निवेश प्राप्त किया.

आरएस/एमजे (रॉयटर्स)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

 

DW.COM

विज्ञापन