मार्टिन शुल्त्स सत्ता के गलियारों में वापसी को बेकरार | दुनिया | DW | 24.11.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

मार्टिन शुल्त्स सत्ता के गलियारों में वापसी को बेकरार

खबरें हैं कि यूरोपीय संसद के अध्यक्ष मार्टिन शुल्त्स वापस बर्लिन के सत्ता के गलियारों में आना चाहते हैं. अटकलें लग रही हैं कि वह अगले साल चुनाव में मैर्केल के सामने एसपीडी पार्टी के चांसलर पद के उम्मीदवार हो सकते हैं.

अभी जर्मनी में चांसलर अंगेला मैर्केल की सीडीयू पार्टी और एसपीडी के गठबंधन वाली सरकार चल रही है. पिछले दिनों ही मैर्केल ने घोषणा की है कि वह चौथी बार चांसलर पद के लिए मैदान में उतरेंगी. ऐसे में, जर्मन अखबार ज्यूड डॉएचेत्साइटुंग ने गुरुवार को एसपीडी पार्टी के भीतर अपने सूत्रों के हवाले से खबर दी कि शुल्त्स यूरोपीय संसद के अध्यक्ष पद पर अब आगे बने रहना नहीं चाहते हैं, बल्कि नॉर्थ राइन वेस्टफालिया प्रांत से संसदीय उम्मीदवारों की सूची में जगह बनाना चाहते हैं.

बताया जाता है कि पार्टी के भीतर बुधवार शाम से ही इस फैसले को लेकर चर्चा होने लगी. हालांकि यह अभी साफ नहीं है कि शुल्त्स की पार्टी के भीतर क्या भूमिका होगी. यह भी कहा जा रहा है कि वह एसपीडी की तरफ से चांसलर पद के उम्मीदवार हो सकते हैं.

देखिए यूरोपीय संघ के टेढ़े मेढ़े कानून

माना जाता है कि पार्टी के भीतर कुछ लोग शुल्त्स को जर्मन वाइस चांसलर जिगमार गाब्रिएल से कहीं ज्यादा पसंद करते हैं. हालांकि शुल्स ने अभी तक इन बातों को खारिज किया है कि चांसलर बनने की उनकी कोई योजना है. जिन लोगों के नाम दावेदारों में गिने जा रहे हैं उनमें हैमबर्ग के मेयर ओलाफ शोल्स भी शामिल हैं.

शुल्त्स शुल्त्स को जर्मनी का विदेश मंत्री भी बनाया जा सकता है क्योंकि मौजूदा विदेश मंत्री फ्रांक वॉल्टर श्टाइनमायर को सत्ताधारी गठबंधन ने राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है. तय माना जा रहा है कि वही मौजूदा राष्ट्रपति योआखिम गाउक का स्थान लेंगे, जिनका कार्यकाल जल्द पूरा होने वाला है.

एसपीडी के भीतर बहुत से लोग मानते हैं कि यूरोपीय संसद का अध्यक्ष होने के नाते शुल्त्स का अनुभव विदेश मंत्री के पद के लिए बिल्कुल सही है. मौजूदा सरकार में वाइस चांसलर और विदेश मंत्री, ये दोनों अहम पद गठबंधन की जूनियर सहयोगी एसपीडी को दिए गए हैं.

देखिए, ब्रेक्जिट के बाद क्या होगा

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन