सिंगापुर पर रॉकेट हमले का मंसूबा नाकाम | दुनिया | DW | 05.08.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

सिंगापुर पर रॉकेट हमले का मंसूबा नाकाम

सिंगापुर पर रॉकेट हमले की तैयारी कर रहे संदिग्ध आतंकियों को इंडोनेशिया ने गिरफ्तार किया. रॉकेट हमले की योजना से पता चल रहा है कि आतंकवादियों के हाथ किस तरह की तकनीक लग चुकी है.

इंडोनेशिया की आतंकवाद निरोधी पुलिस के मुताबिक बाटाम द्वीप से छह संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है. बाटाम द्वीप सिंगापुर से 25 किलोमीटर दूर है. नेशनल पुलिस के प्रवक्ता मेजर जनरल बोय राफली अमर के मुताबिक, "हमारे पास इस बात के पुख्ता संकेत हैं कि ये छह लोग सिंगापुर के मरीना बे पर बाटान से रॉकेट दागने की योजना बना रहे थे."

मरीना बे सिंगापुर का सबसे लोकप्रिय इलाका है. वहां शानदार नजारे के बीच कई रेस्तरां और एक बेहद बड़ा कसीनो है. पुलिस का कहना है कि गिरफ्त में आए संदिग्धों में गैंग का प्रमुख गिगिह रहमत दिया भी है. उसकी उम्र 31 साल है. इंडोनेशिया में लगातार आतंकवादी हमलों का खतरा बना हुआ है. बीते एक साल से पुलिस जगह जगह छापे मार रही है. संगठन का नाम कतिबाह गिगिह रहमत है. पुलिस के मुताबिक इस संगठन ने इंडोनेशियाई आतंकवादियों की सीरिया जाने में भी मदद की. सीरिया में आईएस के लिए लड़ रहे बाहरुन नईम से इन संदिग्धों को वित्तीय मदद मिलती रही. जुलाई में इंडोनेशिया के पुलिस मुख्यालय के बाहर हुए आत्मघाती हमले के लिए नईम को जिम्मेदार ठहराया जाता है.

Indonesiens meistgesuchter Islamist Santoso getötet

इंडोनेशिया में आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई

सिंगापुर के गृह मंत्रालय के मुताबिक उन्हें भी रॉकेट हमले के खतरे की भनक लग चुकी थी. सिंगापुर की सुरक्षा एजेंसियां इंडोनेशियाई अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रही हैं.

इंडोनेशिया में दुनिया के सबसे ज्यादा मुसलमान रहते हैं. उदार इस्लाम के लिए मशहूर देश में बीते डेढ़ दशक में चरमपंथ तेजी से फैला है. 2002 के बाद से अब तक देश में कई आतंकवादी हमले हो चुके हैं. आतंकी ज्यादातर पुलिस, सरकारी संस्थाओं और आतंकवाद निरोधी फोर्स पर निशाना साध रहे हैं.

दुनिया भर की सुरक्षा एजेंसियां लगातार इस बात की चेतावनी दे रही हैं कि इस्लामिक स्टेट और उससे जुड़े आतंकवादी आधुनिक तकनीक हासिल करने की फिराक में हैं. अत्याधुनिक मशीन गनों से लैस इस्लामिक स्टेट के आतंकी पूर्वी सोवियत संघ से टूटे देशों से परमाणु हथियार के लिए जरूरी सामान भी जुटाने की फिराक में हैं.

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन