ईलॉन मस्क को ट्विटर पर लुभा रहे हैं कई राज्यों के मंत्री | भारत | DW | 18.01.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

ईलॉन मस्क को ट्विटर पर लुभा रहे हैं कई राज्यों के मंत्री

भारत के कई राज्यों के मंत्री अमेरिकी उद्योगपति ईलॉन मस्क को लुभाने की कोशिश कर रहे हैं. इन मंत्रियों ने ट्वीट कर अपने-अपने प्रस्ताव मस्क को भेजे हैं.

भारत के कम से कम तीन राज्यों के मंत्रियों ने ईलॉन मस्क को ट्वीट कर अपने यहां फैक्ट्री लगाने के लिए बुलाया है. अमेरिकी अरबपति उद्योगपति और टेस्ला कार के मालिक मस्क ने ट्वीट कर कहा था कि वह भारत में अपनी इलेक्ट्रिक कार फैक्ट्री लगाने की प्रक्रिया में काफी चुनौतियों से गुजर रहे हैं.

टेस्ला दुनिया के सबसे बड़े बाजार भारत में अपनी कार बेचने की कोशिशों में है लेकिन आयात कर पर सौदेबाजी चल रही है जिसने इन कोशिशों को झटका पहुंचाया है. भारत में आयात कर सौ फीसदी तक हो सकता है. पिछले हफ्ते लोगों ने मस्क से ट्विटर पर पूछा था कि वह भारत में कार कब लॉन्च करेंगे. इसके जवाब में उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी "सरकार के साथ बहुत सारी चुनौतियों पर काम कर रही है.”

कई मंत्रियों ने दिया जवाब

इस टिप्पणी के बाद भारत के कई राज्यों के मंत्रियों ने ट्विटर पर ही मस्क को अपने-अपने क्षेत्रों की खूबियां बताना शुरू कर दिया. बीते शुक्रवार तेलंगाना के उद्योग और वाणिज्य मंत्री केटी रामाराव ने ट्विटर पर कहा, "मैं भारतीय राज्य तेलंगाना का उद्योग और वाणिज्य मंत्री हूं. हमारा राज्य बिजनस के लिए सबसे अच्छी जगह है और हम सस्टेनेबिलीटी में भी सबसे आगे हैं.”

तीन अन्य राज्यों के मंत्रियों ने ऐसे ही ट्वीट किए हैं. पश्चिम बंगाल के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री ने कहा कि उनका राज्य सबसे अच्छे आधारभूत ढांचे और सोच के लिए जाना जाता है. महाराष्ट्र के विकास मंत्री ने अपने राज्य की प्रगतिशीलता का बखान किया तो पंजाब में विधायक और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने पर्यावरण के अनुकूल नौकरियों और विकास की प्रतिबद्धता जाहिर की. ईलॉन मस्क ने किसी भी मंत्री को फिलहाल कोई जवाब नहीं दिया है.

मोदी ने दिया संदेश

भारत ने विदेशी कार निर्माता कंपनियों को लुभाने के लिए नई सुविधाओं का ऐलान किया है. मंगलवार को वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम को संबोधित करते हुए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनका देश कई देशों के साथ मुक्त व्यापार समझौते पर काम कर रहा है. हाल ही में ब्रिटेन के साथ मुक्त व्यापार समझौते पर बातचीत शुरू हो गई है. नरेंद्र मोदी ने कहा, "भारत में निवेश करने का यह सबसे अच्छा समय है क्योंकि हम ग्लोबल सप्लाई चेन के एक भरोसेमंद साझीदार बनना चाहते हैं.”

ईलॉन मस्क का कहना है कि पहले वह कारें आयात कर बाजार का जायजा लेना चाहते हैं. भारत में 40 हजार अमेरिकी डॉलर यानी लगभग 30 लाख रुपये से अधिक की इलेक्ट्रिक कारों पर 100 प्रतिशत आयात कर लगता है. टेस्ला को डर है कि इतने कर के बाद कीमत ज्यादा हो जाएगी जो भारत में उसके व्यापार को प्रभावित करेगी.

13 जनवरी को ट्विटर पर एक शख्स ने मस्क से सवाल पूछा था कि भारत में टेस्ला कब आएगी. इस व्यक्ति ने लिखा, ''टेस्ला भारत में अपनी कार कब लाएगा, क्या इसपर आप कोई अपडेट दे सकेंगे? टेस्ला कारें बहुत अच्छी हैं और उन्हें दुनिया के कोने-कोने में पहुंचना चाहिए.''

इस ट्वीट का जवाब देते हुए मस्क ने लिखा, ''सरकार के साथ काफी मुश्किल आ रही है, लेकिन हम सुलझाने में लगे हैं.'' इससे पहले जुलाई 2021 में मस्क ने एक ट्वीट करके बताया था कि टेस्ला भारत में आना चाहती है, लेकिन भारत में इंपोर्ट ड्यूटी बाकी किसी बड़े देश के मुकाबले सबसे ज्यादा हैं. उन्होंने यह भी बताया था कि उनकी कंपनी टैरिफ में तात्कालिक छूट चाहती है.

डिजिटल कंसल्टेंसी टेकार्क के मुताबिक 2020-21 में भारत में बिकने वाली कुल कारों में सिर्फ 1.3 प्रतिशत इलेक्ट्रिक कारें थीं. सरकार का लक्ष्य है कि 2030 तक देश की कुल कारों में 30 प्रतिशत इलेक्ट्रिक हों.

वीके/एए (रॉयटर्स, एएफपी, एपी)

DW.COM