जर्मनी में भारतीय स्टूडेंट्स के लिए बड़े काम की वेबसाइट | दुनिया | DW | 10.01.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

जर्मनी में भारतीय स्टूडेंट्स के लिए बड़े काम की वेबसाइट

जर्मनी में पढ़ने वाले और पढ़ने की इच्छा रखने वाले भारतीय स्टूडेंट्स की मदद के लिए दूतावास की वेबसाइट खूब चर्चित है. और स्टूडेंट्स की खूब मदद हो रही है.

Deutschland Potsdam Indische Partnerschaft Wissenschaft Gurjit Singh (Indische Botschaft)

जर्मनी में भारतीय राजदूत गुरजीत सिंह

जर्मनी में पढ़ने के इच्छुक भारतीय छात्रों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. पिछले छह साल में जर्मनी आने वाले भारतीय छात्रों की तादाद तीन गुना हो गई है. ज्यादातर भारतीय छात्र वैज्ञानिक और तकनीकी रिसर्च के क्षेत्रों में हैं. इन छात्रों की मदद के लिए जर्मनी में भारतीय दूतावास की एक वेबसाइट भी है. www.indianstudentsgermany.org नाम के इस वेब पोर्टल के जरिए बर्लिन स्थित भारतीय दूतावास स्टूडेंट्स की हर संभव मदद करने की कोशिश कर रहा है. दूतावास की ओर से जारी बयान के मुताबिक इस वेबसाइट के चार मुख्य मकसद हैं जिनमें भारतीय मिशन तक स्टूडेंट्स की पहुंच बनाना अहम है.

यह भी देखिए, जर्मनी में पढ़ने की 10 वजह

जर्मनी में भारतीय स्टूडेंट्स के कई संगठन भी हैं जो अलग अलग शहरों या इलाकों में काम कर रहे हैं. इस वेबसाइट के जरिए भारतीय मिशन इन सभी संस्थाओं को साथ लाने की कोशिश भी कर रहा है. वेबसाइट पर कई ऐसी सामान्य जानकारियां उपलब्ध हैं जो आमतौर पर कहीं मिलती नहीं, लेकिन भारत से जर्मनी आने वाले छात्रों के लिए बहुत काम की होती हैं. यानी जो स्टूडेंट्स जर्मनी में पढ़ रहे हैं वे तो इस वेबसाइट से मदद पा ही सकते हैं, ऐसे स्टूडेंट्स के लिए भी वेबसाइट पर बहुत जानकारी है जो अभी जर्मनी में पढ़ने के बारे में सोच रहे हैं. मसलन रहने की जगहों के बारे में, इंटर्नशिप और स्कॉलरशिप के मौकों की भी जानकारियां हैं. इसके अलावा वेबसाइट पर एक पन्ना वेकंसियों का भी है. यानी जर्मनी में भारतीय स्टूडेंट्स या प्रोफेशनल्स के लिए उपलब्ध मौके भी यहां बताए गए हैं.

जानिए, कैसे पूरा करें यूरोप में पढ़ने का सपना

वेबसाइट पिछले कुछ महीनों में खासी कामयाब रही है. अब स्टूडेंट्स फेसबुक पेज आदि के जरिए सीधे अधिकारियों से बात कर अपनी समस्याएं सुलझा रहे हैं. 500 से ज्यादा स्टूडेंट्स की समस्याएं फेसबुक या ईमेल से ही हल की जा चुकी हैं. नवंबर में भारतीय स्टूडेंट्स के संगठनों का एक वेबीनार भी आयोजित किया गया जहां लोग एक दूसरे से बात कर पाए. 16 स्टूडेंट्स असोसिएशंस आईएसजी प्लैटफॉर्म से जुड़ चुकी हैं. 2600 से ज्यादा स्टूडेंट्स सीधे यहां रजिस्टर हो चुके हैं.

DW.COM

संबंधित सामग्री