बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट: 1,900 किसानों ने भूमि अधिग्रहण को लेकर शिकायत की | भारत | DW | 23.03.2021

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट: 1,900 किसानों ने भूमि अधिग्रहण को लेकर शिकायत की

अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए भूमि अधिग्रहण को लेकर पिछले दो सालों में 1900 से अधिक किसानों ने शिकायतें दर्ज कराई है. यह जानकारी गुजरात विधानसभा में सोमवार को प्रश्नकाल के दौरान सामने आई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट अहमदाबाद और मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन के लिए गुजरात में भूमि अधिग्रहण का लगभग 95 फीसदी काम पूरा हो गया है. लेकिन, इस प्रोजेक्ट के लिए भूमि अधिग्रहण को लेकर राज्य और केंद्र सरकार के दावों के बावजूद अभी भी लगभग दो हजार किसान गुजरात में भूमि अधिग्रहण का विरोध कर रहे हैं. गुजरात विधानसभा में राज्य सरकार की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, आवश्यक भूमि का लगभग 5 प्रतिशत अभी भी अधिग्रहण किया जाना है.

कुछ कांग्रेसी विधायकों ने राज्य सरकार से सवाल किया था कि पूरे रूट के अलग-अलग जिलों में अहमदाबाद और मुंबई के बीच हाई स्पीड रेल नेटवर्क के अधिग्रहण के लिए कितनी जमीन की जरूरत थी, कितनी जमीन का अधिग्रहण हुआ और अधिग्रहण के संबंध में सरकार को कितनी शिकायतें प्राप्त हुईं. सवाल का जवाब देते हुए राजस्व मंत्री कौशिक पटेल ने बताया कि परियोजना के लिए कुल 73,64,819 हेक्टेयर भूमि की जरूरत थी. आवश्यक भूमि में से अब तक 69,98,888 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया गया है और अभी भी 3,65,931 हेक्टेयर भूमि किसानों से हासिल की जानी है, जो आवश्यक कुल भूमि का लगभग पांच प्रतिशत है.

विधायकों ने यह भी पूछा था कि भूमि अधिग्रहण के संबंध में कितने किसानों ने विरोध किया और अधिकारियों से शिकायत की. मंत्री ने इस सवाल के जवाब में कहा कि कुल 1,908 किसानों ने प्रधानमंत्री की परियोजना के बारे में विरोध या शिकायत की थी, सबसे ज्यादा शिकायतें सूरत (940), उसके बाद भरुच (408), वलसाड (236), नवसारी (209), वडोदरा (26) से मिली. अहमदाबाद के चार किसानों ने भी भूमि अधिग्रहण के खिलाफ शिकायत की. राज्य सरकार के मुताबिक खेडा और वलसाड में भूमि अधिग्रहण का काम हो चुका है.

DW.COM

संबंधित सामग्री