गुजरात में केमिकल फैक्ट्री में धमाके के बाद गोदाम ढहा, 12 की मौत | भारत | DW | 05.11.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

गुजरात में केमिकल फैक्ट्री में धमाके के बाद गोदाम ढहा, 12 की मौत

गुजरात के अहमदाबाद में केमिकल फैक्ट्री में शक्तिशाली धमाके में 12 लोगों की मौत हो गई. मृतकों में पांच महिलाएं भी शामिल हैं. मारे गए लोग पास में कपड़े के गोदाम में पैकेजिंग का काम कर रहे थे.

हादसा अहमदाबाद के पिराना-पिपलाज रोड इलाके में केमिकल फैक्ट्री में आग लगने के बाद विस्फोट के बाद हुआ और गोदाम ढहने से 12 लोगों की मौत हो गई, मृतकों में पांच महिलाएं भी शामिल हैं. विस्फोट इतना शक्तिशाली था की बगल में बना एक टेक्सटाइल गोदाम ढह गया. बताया जा रहा है कि मृतक इसी गोदाम में पैकेजिंग का काम कर रहे थे और मलबे के नीच कई लोग दब गए. हादसे के बाद बुधवार देर शाम तक मलबे के नीचे से लोगों को बचाने का काम जारी रहा.

साथ वाली इमारत में काम करने वाले मजदूरों ने बताया कि विस्फोट इतना भीषण था कि गोदाम की दीवारें क्षतिग्रस्त हो गई, जिससे छत गिर गई और उसमें (कपड़े के गोदाम) काम करने वाले लोग नीचे दब गए. दमकल विभाग ने मलबे के नीचे से नौ लोगों को बचाया है और उनका इलाज अस्पताल में जारी है. लेकिन कई लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर हादसे पर दुख जताया है, "अहमदाबाद की घटना से बेहद दुखी हूं. हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं. घायलों के जल्द स्वास्थ्य लाभ के लिए प्राथना करता हूं. अधिकारी घायलों की हरसंभव मदद कर रहे हैं.''

गृह मंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर कहा कि वे हादसे से दुखी हैं और इस दुर्घटना में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं.

दमकल विभाग के मुताबिक बचाव अभियान मुश्किल भरा रहा क्योंकि धमाके के बाद आग लग गई और गोदाम ढहने से हर तरफ मलबा बिखरा पड़ा था. विभाग के मुताबिक पहले आग बुझाई गई और उसके बाद धुआं खत्म होने पर मलबे के ढेर को हटाया गया. बचाव अभियान में दमकल विभाग के 60 कर्मचारी और 24 दमकल की गाड़ियों का इस्तेमाल किया गया.

केमिकल फैक्ट्री में आग कैसे लगी इसका कारण नहीं पता चल पाया है. फॉरेंसिक टीम ने मौके पर पहुंचकर जांच की है और कारणों का पता लगा रही है.

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री