कम्युनिस्ट शासन के 70 साल पूरे होने का जश्न मना रहा है चीन | दुनिया | DW | 01.10.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

कम्युनिस्ट शासन के 70 साल पूरे होने का जश्न मना रहा है चीन

चीन में कम्युनिस्ट शासन के 70 साल पूरे हो गए हैं. इस मौके पर पूरे चीन में जश्न मनाया जा रहा है. लेकिन इस जश्न के बीच हांगकांग में बंद के हालात हैं और प्रदर्शन जारी हैं.

चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के सत्ता में 70 साल पूरे हो गए हैं. इस मौके पर चीन में जश्न मनाया जा रहा है. इस जश्न की शुरुआत एक परेड के साथ हुई जिसमें चीन ने अपने आर्थिक विकास को दिखाने के साथ सैन्य क्षमता दिखाने के लिए नवीनतम हथियारों का प्रदर्शन किया. 1 अक्टूबर 1949 को दो दशक लंबे गृहयुद्ध के बाद पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के नेता  माओ त्से तुंग ने स्वाधीनता का एलान किया था.

चीन के राष्ट्रपित शी जिनपिंग ने तियानमैन स्क्वायर पर भाषण देते हुए कहा, "कोई भी ताकत इस महान देश की नींव को नहीं हिला सकती है. कोई भी ताकत चीन और चीनी लोगों को आगे बढ़ने से नहीं रोक सकती है." जिनपिंग के साथ कम्युनिस्ट पार्टी के दूसरे नेता भी मौजूद थे. ये वही तियानमैन स्क्वायर जहां 1989 में लोकतंत्र के समर्थन में प्रदर्शन किया था. इन प्रदर्शनों का दमन सरकार ने हिंसक तरीके से किया जिसमें बहुत लोग मारे गए थे.

Peking Parade 70 Jahre Volksrepublik China (Reuters/T. Peter)

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग.

चीनी सेना ने भी इस परेड में अपनी ताकत का प्रदर्शन किया. चीन ने अमेरिकी रक्षा प्रणाली को भेद सकने वाली परमाणु मिसाइल का पहली बार प्रदर्शन किया. यहां चीनी वायुसेना के विमानों ने उड़ान भरी और हजारों सैनिकों ने मार्च पास्ट निकाला.

चीनी सरकार की ताकत दिखाने के लिए मनाए जा रहे इस स्थापना दिवस के साथ हांगकांग में चल रहे प्रदर्शनों के बीच जिनपिंग ने यहां भाषण करते हुए कहा कि वो हांगकांग का अर्ध स्वायत्त दर्जा जारी रखेंगे. चीन में मनाए जा रहे जश्न और सरकारी ताकत का प्रदर्शन कहीं ना कहीं देश के लोगों के सामने राष्ट्रीय एकता का संदेश देने के लिए भी है. इसकी वजह हांगकांग की आजादी की मांग, आर्थिक मंदी और अमेरिका के साथ चल रहा व्यापारिक युद्ध है.

हांगकांग में पिछले चार महीनों से प्रदर्शन चल रहे हैं. चीनी और हांगकांग की सरकारों ने बल प्रयोग कर इन प्रदर्शनों को दबाने की कोशिश की है. लेकिन अभी भी प्रदर्शन जारी हैं. 2012 में जिनपिंग के सत्ता संभालने के बाद ये पहली बार है जब चीन में कहीं इतना विरोध प्रदर्शन हो रहा है.

हांगकांग में भी सरकारी तौर पर कम्युनिस्ट चीन के स्थापना दिवस का जश्न मनाया जा रहा है. चीन का झंडारोहण करने के बाद हांगकांग के क्षेत्रीय प्रमुख सचिव मैथ्यू चेउंग ने कहा कि हांगकांग पहचानने योग्य नहीं बचा है. सरकार हांगकांग की सामाजिक समस्याओं को दूर करने के लिए नए सिरे से कदम उठाएगी. उन्होंने कहा कि प्रदर्शन कर रहे लोगों की बातों को ध्यान में रखा जाएगा. चेउंग ने हांगकांग की प्रमुख कैरी लाम की जगह पर कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. लाम एक प्रतिनिधिमंडल के साथ चीनी स्वाधीनता दिवस में शामिल होने बीजिंग गई हुई हैं.

Hongkong 70 Jahre Volksrepublik China (Reuters/S. Vera)

हांगकांग में चल रहे प्रदर्शन.

हांगकांग की सरकार ने  सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए हैं. प्रदर्शनकारियों ने आज के दिन कई रैलियों का आयोजन प्रस्तावित कर रखा है. प्रदर्शन कर रहे लोगों ने आज के दिन को 'अ डे ऑफ ग्रीफ' यानी दुखभरा दिन नाम दिया है. हांगकांग में सरकार समर्थक और प्रदर्शनकारियों के समूहों के बीच झड़प और हाथापाई भी हुई. हालांकि पुलिस ने बीच बचाव कर इसे हिंसक होने से बचाया. बाद में दो समूहों ने अपनी रैलियां निकालीं. पुलिस ने दोनों समूहों को अलग-अलग कर दिया है.  दो सरकार समर्थकों को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया है.

आरएस/ओएसजे (रॉयटर्स, एएफपी, डीपीए, एपी)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन