करियर खत्म, अब बस एक काम करना चाहते हैं माइकल फेल्प्स | खेल | DW | 16.08.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

करियर खत्म, अब बस एक काम करना चाहते हैं माइकल फेल्प्स

माइकल फेल्प्स ने कह दिया है कि उनका स्विमिंग करियर अब खत्म हुआ. तो अब क्या करेगा यह महानतम ओलंपियन? फेल्प्स की बस एक तमन्ना है.

स्विमिंग पूल में तो माइकल फेल्प्स सारी गहराइयां नाप चुके हैं. अब वह अपने जैसे कुछ और फेल्प्स तैयार करना चाहते हैं, यानी पिता बनना चाहते हैं. स्विमिंग के करियर के बाद जो काम यह महानतम ओलंपियन करना चाहता है, उसमें सबसे ऊपर है अच्छा पिता बनना.

ओलंपिक इतिहास के सबसे महान खिलाड़ी का दर्जा हासिल कर चुके अमेरिकी तैराक माइकल फेल्प्स ने रियो में अपना 23वां गोल्ड मेडल जीतने के बाद कहा कि उनका करियर अब समाप्त हुआ. अपने मुकाबले खत्म होने के बाद फेल्प्स ने अपनी मंगेतर निकोल जॉनसन और तीन महीने के बेटे बूमर के साथ वक्त बिताया. उन्होंने कहा, "तीन-चार हफ्ते हो गए थे उसे देखे. इतने दिनों में ही वह इतना बड़ा हो गया है. रात को मैंने उसका डायपर बदला. वह बैठा मुझे देखता रहा और मुस्कुराता रहा. इससे मेरी आंखें भीग गईं. उसे मेरी ओर मुस्कुराते देखना, हंसते-खिलखिलाते देखना इतना अच्छा था कि क्या बताऊं!"

अपने करियर की आखिरी रेस जीतने के बाद फेल्प्स जब होटल पहुंचे तो बूमर सो रहा था. उन्होंने जाते ही उसे गोद में उठा लिया. इस अनुभव को उन्होंने कुछ यूं बताया, "मैंने बस उसे उठाया और थामे रखा. यही है, जो अब मैं करना चाहता हूं. मैं उसे बड़े होते देखना चाहता हूं." फेल्प्स कहते हैं कि वह अपने घर के आंगन में अपने बेटे के साथ खेलते हुए वक्त बिताना चाहते हैं, उसे खेल मुकाबले दिखाने ले जाना चाहते हैं और वैसा सब कुछ करना चाहते हैं जो बूमर की जिंदगी का हिस्सा हो. वह कहते हैं, "मेरे लिए यही नंबर एक काम है. मैं हर कदम पर उसके साथ होना चाहता हूं. मैं एक पल भी खोना नहीं चाहता. कितने सारे लोग कह चुके हैं कि आप पलक झपको और वे पल बीत जाते हैं. वे इतनी जल्दी बड़े होते हैं. आपको पता भी नहीं चलता और वे कॉलेज पहुंच जाते हैं. मैं तो कुछ भी खोना नहीं चाहता."

फेल्प्स के माता-पिता का तलाक हो गया था, तब वह बच्चे ही थे. उनके अपने पिता से काफी तनावपूर्ण रिश्ते रहे. जब शराब पीकर गाड़ी चलाने पर दोबारा पकड़े जाने के बाद फेल्प्स को थेरेपी में छह महीने गुजारने पड़े, तब वह अपने पिता के दोबारा करीब आए. और अब स्थिति यह है कि एक महीना पहले जब अमेरिका में ओलंपिक ट्रायल हो रहे थे तो फेल्प्स के पिता फ्रायड उनका हौसला बढ़ाने के लिए स्टेडियम में थे. हालांकि वह ब्राजील नहीं आ पाए.

अब फेल्प्स की योजना कुछ यूं है कि वह अपनी होने वाली पत्नी के साथ फीनिक्स के पास कहीं रहेंगे. हालांकि उन्होंने कहा कि बाल्टिमोर हमेशा उनका घर रहेगा लेकिन कम से कम अगले दो साल तो वह फीनिक्स में रहेंगे. वह अपनी फाउंडेशन को ज्यादा वक्त देंगे और बच्चों को तैरना भी सिखाएंगे.

रियो में सिर्फ एक मुकाबला ऐसा था जो फेल्प्स नहीं जीत पाए. इस मुकाबले में उन्हें 21 साल के जोसेफ स्कूलिंग ने हराया जो सिंगापुर के तैराक हैं. जोसेफ बचपन में फेल्प्स के फैन थे और एक बार तो उनके साथ बतौर फैन फोटो भी खिंचा चुके हैं. अब वह फेल्प्स की विरासत को आगे बढ़ाने की कोशिश करेंगे.

फेल्प्स ने भी तैराकी को विदा नहीं कहा है. पिछली बार ओलंपिक के बाद मोटे हो गए फेल्प्स कहते हैं, "मैं कभी खुद को 230 पाउंड का नहीं होने देना चाहता. स्विमिंग अच्छी एक्सरसाइज है. यह मुझे आती है. हफ्ते में एक दो बार दो मील की स्विमिंग अच्छी ही रहेगी."

चलते वक्त फेल्प्स ने पत्रकारों से कहा, "अब आप लंबे समय तक मुझे ऐसी किसी जगह नहीं देखेंगे, फिर मिलते हैं."

DW.COM

संबंधित सामग्री