कोरोना के चलते हाई अलर्ट पर पेरिस | दुनिया | DW | 05.10.2020

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

कोरोना के चलते हाई अलर्ट पर पेरिस

फ्रांस कोरोना के सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है. पेरिस में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए शहर को "मैक्सिमम वायरस अलर्ट" पर रखा गया है.

3 अक्टूबर को फ्रांस में कोरोना के 16,972 मामले दर्ज किए गए. महामारी की शुरुआत से यह फ्रांस में एक दिन में दर्ज हुए सबसे अधिक मामले हैं. अब तक वहां कोविड-19 के कारण 32,230 लोगों की जान जा चुकी है. संक्रमित लोगों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पेरिस में किसी भी काम के लिए लोगों के जमा होने पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है. शहर के सभी कैफे और बार बंद कर दिए गए हैं. हालांकि रेस्तरां को अब भी खुलने की अनुमति है. शहर के पुलिस प्रमुख डिडियर लालमेंट ने कहा कि अगले दो हफ्तों तक पेरिस निवासियों को इन नियमों का पालन करना होगा. उन्होंने कहा, "हम लगातार वायरस की स्थिति के अनुरूप खुद को ढाल रहे हैं. हम इसकी रोकथाम के लिए जरूरी कदम उठा रहे हैं."

केवल पेरिस ही नहीं, ये नियम उसके आसपास के इलाकों पर भी लागू होंगे. सार्वजनिक स्थलों पर ना ही परिवार कोई आयोजन कर सकेंगे और ना ही छात्रों को किसी भी तरह की पार्टी करने की इजाजत होगी. रेस्तरां के लिए कई तरह के नियम बनाए गए हैं. मेजों के बीच में अधिक दूरी होगी और रेस्तरां के आकार के हिसाब से तय किया जाएगा कि कितने लोगों को अंदर जाने की इजाजत है. साथ ही रेस्तरां में आने वालों के नाम और नंबर भी नोट किए जाएंगे.

पेरिस में जिम पहले से ही बंद पड़े हैं. खेल के मैदान और स्विमिंग पूल 18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए ही खोले जाएंगे. सिनेमा, थिएटर और म्यूजियम में भी रेस्तरां जैसे नियम लगाए गए हैं. लेकिन बड़े बड़े शो, इवेंट, ट्रेड फेयर इत्यादि पर रोक है. फिलहाल टेनिस की मशहूर प्रतियोगिता फ्रेंच ओपन चल रही है जिसे देखने आम तौर पर लाखों की संख्या में लोग जमा हुआ करते थे. इस बार हर दिन कुल एक हजार लोगों को ही स्टेडियम में आने की अनुमति है.

पेरिस में हर दिन औसतन 3,500 नए मामले सामने आ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार 36 फीसदी आईसीयू बिस्तरों पर कोरोना के मरीज हैं. पेरिस से पहले मार्से और प्रॉवॉन्स में भी हाई अलर्ट घोषित किया जा चुका है. ये शहर पर्यटन के जरिए कमाते हैं. ऐसे में यहां सभी बार और रेस्तरां के बंद किए जाने पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन देखे गए. 12 दिन तक बंद रहने के बाद सोमवार को इन दोनों शहरों में रेस्तरां को फिर से खोलने की इजाजत दी गई. लेकिन इन्हें भी पेरिस जैसे ही नियमों का पालन करना होगा.

यूरोप के कई देशों में कोरोना का संक्रमण दोबारा तेजी से बढ़ने लगा है. इनमें ब्रिटेन, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी प्रमुख हैं. रोमेनिया और चेक गणराज्य में भी संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ रही है.

आईबी/एनआर (एपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री