मिराज विमान से अल कायदा के आतंकियों पर हवाई हमले, 50 ढेर | दुनिया | DW | 03.11.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

मिराज विमान से अल कायदा के आतंकियों पर हवाई हमले, 50 ढेर

फ्रांसीसी सुरक्षाबलों ने 50 से अधिक आतंकवादियों को मार गिराया है और माली में एक ऑपरेशन में 4 चार अन्य लोगों को पकड़ लिया है. फ्रांस की रक्षा मंत्री ने कहा कि कार्रवाई अल कायदा के लिए एक बड़ा झटका है.

फ्रांस की सरकार ने कहा है कि अल कायदा से जुड़े 50 से अधिक आतंकवादी मध्य माली में एक सैन्य ऑपरेशन में मारे गए हैं. फ्रांस ने पिछले सप्ताह इस क्षेत्र में जिहादी विरोधी अभियान की शुरुआत की थी. फ्रांस की रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली ने कहा, "मैं एक ऐसे ऑपरेशन के बारे में बताना चाहूंगी जो अति महत्वपूर्ण है और जिसको 30 अक्टूबर को अंजाम दिया गया. इसके तहत 50 से अधिक आतंकियों को मारा गया है और भारी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद किए गए."

फ्रांस की सेना के प्रवक्ता कर्नल फ्रेडरिक बार्बरी ने कहा, "चार आतंकियों को पकड़ा गया है." साथ ही एक आत्मघाती जैकेट भी बरामद किया गया है. उन्होंने बताया कि यह संगठन क्षेत्र में सेना के ठिकाने पर हमले की तैयारी में था.

फ्रांस का यह ऑपरेशन उस इलाके में हुआ जो बुर्किना फासो और नाइजर की सीमा के पास है. यहां पर सेना चरमपंथियों के खिलाफ लड़ रही है. पार्ली राजधानी बामाको में हैं और उन्होंने सरकार के मंत्रियों से मुलाकात भी की हैं. उन्होंने बताया कि आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई तब की गई जब ड्रोन ने मोटर साइकिलों के काफिले को देखा और उसके बाद सेना ने हवाई हमले किए.

आतंकियों ने ड्रोन से बचने के लिए पेड़ों का सहारा लिया जिसके बाद फ्रांसीसी सेना ने दो मिराज लड़ाकू विमान और ड्रोन आतंकियों पर हमले के लिए लगाए. लड़ाकू विमान और ड्रोन के जरिए आतंकियों पर मिसाइल दागे गए. हवाई हमले में आतंकियों की 30 मोटर साइकिलें तबाह हो गईं हैं.

पार्ली ने कहा कि सैन्य कार्रवाई स्थानीय आतंकवादी समूह के लिए एक बड़ा झटका है, जिसका रिश्ता अल कायदा और सपोर्ट ग्रुप फॉर इस्लाम एंड मुस्लिम से है, जो कि एक क्षेत्रीय जिहादी गठबंधन है.

माली की अंतरिम सरकार ने हाल ही में इस्लामी संगठनों द्वारा चार बंधकों की रिहाई के बदले 200 कैदियों को रिहा किया था, माना जाता है कि उनमें से कुछ आतंकी हैं. रिहा किए गए बंधकों में 75 साल की सोफी पेट्रोनिन भी हैं, जो कि दुनिया में अंतिम फ्रेंच बंधक थी.

फ्रांस ने साहेल क्षेत्र में चरमपंथियों से निपटने के लिए पांच हजार सैनिकों की तैनाती की हुई है. माली में 2013 से फ्रांस की सेना अल कायदा से जुड़े गुट के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है, जिसमें अब तक 41 से अधिक फ्रांसीसी सैनिकों की मौत हो चुकी है.

एए/सीके (एएफपी, रॉयटर्स)

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री