फिर सांस ले रही हैं बेंगलुरू की दम तोड़ती झीलें | मंथन | DW | 06.05.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

फिर सांस ले रही हैं बेंगलुरू की दम तोड़ती झीलें

कभी बेंगलुरू एक हज़ार झीलों का शहर कहा जाता था. लेकिन एक एक कर के ये झीलें गायब होने लगीं. जो थोड़ी बहुत बचीं हैं उनकी हालत बहुत बुरी हो चुकी है. लेकिन कुछ लोग अब इन झीलों में जान फूंक रहे हैं.

वीडियो देखें 05:28

मीडिया सेंटर से और सामग्री

और पढ़ें