1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
USA | Raffinerie in Detroit
तस्वीर: Paul Sancya/AP Photo/picture alliance
अर्थव्यवस्थाउत्तरी अमेरिका

क्या होते हैं तेल के रणनीतिक भंडार

चारु कार्तिकेय
२४ नवम्बर २०२१

भारत और अमेरिका समेत कई देशों ने मिल कर अपने अपने तेल के रणनीतिक भंडारों में से तेल निकालने का फैसला किया है. लेकिन क्या होता है ये रणनीतिक भंडार और क्यों इसमें से तेल निकाल रहे हैं ये सभी देश?

https://www.dw.com/hi/explainer-what-are-strategic-oil-reserves/a-59914952

भारत सरकार ने घोषणा की है कि वो अपने रणनीतिक भंडार में से 50 लाख बैरल या करीब 80 करोड़ लीटर तेल निकालेगी. भारत के ठीक पहले अमेरिका ने इसी तरह पांच करोड़ बैरल तेल अपने रणनीतिक भंडार में से निकालने की घोषणा की थी. चीन, जापान, दक्षिण कोरिया और यूनाइटेड किंगडम भी इसी तरह का कदम उठाने वाले हैं.

क्या होते हैं रणनीतिक भंडार

पूरी दुनिया में सरकारें और निजी कंपनियां मिल कर कच्चे तेल का एक भंडार अपने पास रखती हैं. इस भंडार को ऊर्जा संकट या तेल की सप्लाई में अल्पकालिक गड़बड़ी से निपटने के लिए रखा जाता है.

अमेरिका, चीन, जापान, भारत, यूके समेत दुनिया भर के कई देश ऐसा भंडार रखते हैं. 1973 के तेल संकट के बाद भविष्य में इस तरह के संकटों से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (आईईए) नाम की एक संस्था की स्थापना की गई थी.

Ölfeld in Saudi-Arabien
1973 के तेल संकट के बाद तेल के रणनीतिक भंडार बनाने की शुरुआत की गई थीतस्वीर: picture-alliance/dpa/A. Haider

इसके 30 सदस्य हैं और आठ सहयोगी सदस्य. सभी सदस्य देशों के लिए कम से कम 90 दिनों का तेल का भंडार रखना अनिवार्य है. भारत आईईए का सहयोगी सदस्य है.

कितना भंडार है भारत के पास

तेल मंत्रालय के तहत आने वाली कंपनी आईएसपीआरएल भारत में तेल के रणनीतिक भंडार का प्रबंधन करती है. एक रिपोर्ट के मुताबिक आईएसपीआरएल के पास आपात इस्तेमाल के लिए करीब 3.7 करोड़ बैरल कच्चे तेल का भंडार है.

इतना तेल कम से कम नौ दिनों तक भारत की खपत की जरूरतों को पूरा करने के लिए काफी है. ये भंडार आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम, कर्नाटक के मंगलौर और पदुर में जमीन के नीचे बने विशेष टैंकों में मौजूद है. ओडिशा के चंडीखोल में भी एक ऐसा ही टैंक बनाया जा रहा है.

Symbolbild OPEC, Organisation Erdöl exportierender Länder
ओपेक देश कच्चे तेल का उत्पादन नहीं बढ़ा रहे हैं, जिससे दाम कम नहीं हो रहे हैंतस्वीर: picture-alliance/dpa/B. Gindl

राजस्थान के बीकानेर में भी एक और टैंक बनाने की घोषणा हो चुकी है. इस रणनीतिक भंडार के अलावा तेल कंपनियां कम से कम 64 दिनों का कच्चे तेल का भंडार अपने पास रखती हैं.

सबसे ज्यादा भंडार किस देश के पास है

वैसे तो अंतरराष्ट्रीय तेल बाजार का संचालन करने वाले संगठन ओपेक के सदस्य देशों के पास सबसे ज्यादा कच्चा तेल है, लेकिन गैर ओपेक देशों में अमेरिका के पास तेल का सबसे बड़ा रणनीतिक भंडार है.

ताजा जानकारी के मुताबिक अमेरिका के पास करीब 60 करोड़ बैरल तेल का भंडार मौजूद है. 23 नवंबर को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इसमें से पांच करोड़ बैरल तेल निकालने का आदेश दे दिया. व्हाइट हाउस ने घोषणा की कि अमेरिका के साथ ही भारत, यूके, चीन इत्यादि जैसे देश भी ऐसा की कदम उठाएंगे.

Symbolbild - Erdöl - Tanken
ताजा कदम का अंतरराष्ट्रीय दामों पर असर नहीं पड़ा हैतस्वीर: Getty Images/P. Walter

क्यों निकाला जा रहा है भंडार से तेल

इस कदम का उद्देश्य है अंतरराष्ट्रीय तेल बाजार में तेल की कीमतों को कम करना. तेल के दाम पिछले कई दिनों से बढ़े हुए हैं. इन्हें नीचे लाने के लिए ओपेक देशों से अनुरोध किया जा रहा था कि वो तेल का उत्पादन बढ़ाएं. उत्पादन बढ़ने से सप्लाई बढ़ जाती और दाम नीचे आ जाते.

लेकिन ओपेक देशों ने इस अनुरोध को स्वीकार नहीं किया, जिसके बाद अमेरिका और अन्य देशों ने यह कदम उठाने का फैसला किया.

हालांकि इस कदम का तुरंत तो अंतरराष्ट्रीय दामों पर असर नहीं पड़ा है. फैसले की घोषणा के बाद अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम तीन प्रतिशत और ऊपर चले गए. अब देखना यह होगा कि यह उछाल जारी रहती है या आने वाले दिनों में दाम कुछ नीचे आते हैं.

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

जेल में बंद बेलारूस के मानवाधिकार कार्यकर्ता आलेस बियालियात्स्की

बेलारूस, यूक्रेन और रूस की मुखर आवाजों को शांति का नोबेल

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं