संभव है ब्लैक होल से बाहर निकलना: स्टीफन हॉकिंग | विज्ञान | DW | 13.06.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

संभव है ब्लैक होल से बाहर निकलना: स्टीफन हॉकिंग

मशहूर भौतिकविज्ञानी स्टीफन हॉकिंग का कहना है कि दिक् और काल की गहरी खाई ब्लैक होल से निकल पाना संभव है.

पिछले साल भौतिकशास्त्री स्टीफन हॉकिंग ने ब्लैक होल के बारे में एक नई जानकारी से वाकिफ करा कर विज्ञान जगत को चौंका दिया था. उन्होंने बताया कि ब्लैक होल के भीतर से बचकर निकलाना संभव हो सकता है.

अब तक की वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार ब्लैक होल ऐसी खगो​लीय चीज है जिसका गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र इतना शक्तिशाली होता है कि प्रकाश तक भी इसके खिंचाव से नहीं बच सकता. इसमें एक तरफ की सतह होती है जिसे इवेंट हॉरिजॉन यानि घटना क्षितिज कहा जाता है.

अब तक माना जाता था कि इसके आगोश में आई वस्तुएं बाहर नहीं निकल सकतीं. लेकिन स्टीफन हॉकिंग ने अपने नए शोध के हवाले से ब्लैक होल के बारे में मौजूदा ज्ञान में यह नई जानकारी जोड़ी है कि इससे निकल पाना संभव है.

इस म​हीने हॉकिंग का यह शोध प्रपत्र, फिजिकल रिव्यू लेटर्स में प्रकाशित हो गया है. इससे पहले जनवरी में इसका एक ​शुरुआ​ती परिचय एक वेबसाइट पर प्रकाशित हुआ था. पिछले साल इस विषय पर एक चर्चा के दौरान डॉ. हॉकिंग ने बताया था, ''...जैसा कि पहले इनके बारे में सोचा गया था कि ये अंतहीन कैदखाने हैं, लेकिन ऐसा नहीं है. अगर आपको लगे कि आप एक ब्लैक होल में फंस गए हैं तो हार मत मानें. वहां से बच निकलने का रास्ता है.''

हाकिंग की ओर से आई यह नई जानकारी ना केवल ब्लैकहोल की परिभाषा को बदल देगी बल्कि इस बात पर से भी पर्दा हट सकेगा कि ​ब्लैकहोल द्वारा निगल ली गईं व​स्तुओं और जानकारियों का आखिर होता क्या है.

इस शोध से पहले हाकिंग की यह मान्यता थी कि ब्लैकहोल में समा गई सारी जानकारी खो जाती है. लेकिन अपनी समझदारी को विकसित करते हुए उन्होंने इस शोध में बताया है कि ब्लैक होल के भीतर समा गई जानकारियों के बारे में फिर से पता लगना संभव है.

अब तक की मान्यता के अनुसार वैज्ञानिकों का मानना था कि ब्लैक होल सपाट होते हैं. लेकिन हॉकिंग का कहना है कि ब्लैक होल असल में मुलायम बालों सरीखे अभामंडल से घिरे रहते हैं. ये रोएं उन सभी चीजों की जानकारी संजो कर रखते हैं जो भी ब्लैकहोल में जा समाती हैं.

हालांकि हॉकिंग के इस दावे का यह मतलब कतई नहीं है कि आप ब्लैकहोल में गोता लगाएं और दूसरी तरफ से साबुत जिंदा बच कर निकल जाएं. इसका मतलब यह है कि आपके श​रीर के बजाय आपकी जानकारी वहां सु​रक्षित रहेगी. जिसका बाहर रिसाव संभव है.

DW.COM

विज्ञापन