पाकिस्तान में टिड्डियों की वजह से राष्ट्रीय आपातकाल घोषित | विज्ञान | DW | 04.02.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

पाकिस्तान में टिड्डियों की वजह से राष्ट्रीय आपातकाल घोषित

पाकिस्तान में टिड्डियों के झुंड अनाज और सब्जियों की फसलों को काफी नुकसान पहुंचा रहे हैं. ऐसे में पाकिस्तान की सरकार ने टिड्डियों से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा की है.

पाकिस्तान में ही नहीं भारत के भी कुछ राज्य टिड्डी दल के निशाने पर हैं. हजारों की संख्या में आ रही टिड्डियां करोड़ों रुपये की फसल को कुछ घंटों में ही बर्बाद कर देती हैं. भारत के पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान ने टिड्डी दल के हमले के कारण राष्ट्रीय आपातकाल का ऐलान किया है. टिड्डी दल बड़े पैमाने पर फसलों को बर्बाद कर रहे हैं जिससे खाद्य असुरक्षा की आशंका बढ़ जाती है. पाकिस्तान के सूचना मंत्री फिरदौस आशिक आवान के मुताबिक, "पिछले दो दशकों में हम टिड्डी दल के गंभीर हमलों का सामना कर रहे हैं. हमने इस खतरे से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपातकाल घोषित करने का फैसला किया है." पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने टिड्डी दल के हमले से निपटने को लेकर नेशनल एक्शन प्लान को मंजूरी दी है. समाचार एजेंसी डीपीए से सिंध कृषि मंडल के सदस्य और किसान निसार खासखली ने कहा, "हमें आशंका है कि इस साल हम गेंहू पैदावार के 2.7 करोड़ टन के लक्ष्य को हासिल कर पाएंगे."

दूसरी तरफ पाकिस्तान की संसद में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मंत्री मखदूम खुसरो बख्तियार ने कहा, "टिड्डियों का हमला अभूतपूर्व और चिंताजनक है." उन्होंने कहा कि सीमित संसाधनों की वजह से अधिकारियों को टिड्डियों से निपटने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ रहा है. ईरान से उड़कर जून में पाकिस्तान आई टिड्डियों ने भारी पैमाने पर कृषि क्षेत्र को नुकसान पहुंचाया है.

पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिम जिलों में कपास, गेहूं, मक्का समेत अन्य फसलों को टिड्डी नुकसान पहुंचा चुकी है. टिड्डी दल सिंध से उड़कर खैबर पख्तूनख्वाह तक पहुंच गया है. अधिकारियों की सुस्त प्रतिक्रिया और अनुकूल मौसम ने टिड्डियों को प्रजनन का मौका दे दिया है जिसके कारण है कि वे रेगिस्तानी इलाकों से फसलों और आस-पास के शहरों पर हमला कर रही हैं.

भारत में कैसा असर?

पाकिस्तान से आ रहे टिड्डी दल भारतीय राज्य राजस्थान, पंजाब और गुजरात के कुछ जिलों में भी फसलों को नुकसान पहुंचा चुके हैं. राजस्थान के पश्चिमी जिलों में इन टिड्डी दलों के कारण करोड़ों रुपये की फसल के नुकसान के बाद अब राजस्थान सरकार ने नुकसान की रिपोर्ट कृषि विभाग से मांगी है. राजस्थान में ही टिड्डी दल का हमला एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन गया है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार से इस पर मदद मांगी है.

दूसरी ओर पंजाब में भी टिड्डी दल को लेकर सतर्कता बरती जा रही है. पंजाब के फाजिल्का में टिड्डियों के आने के बाद कृषि विभाग ने इन्हें स्प्रे कर भगाने की कोशिश की. गुजरात में भी दिसंबर महीने में टिड्डियों का हमला हुआ था जिसमें दो जिलों के 25 हजार हेक्टेयर की फसल तबाह हो गई थी. गुजरात सरकार ने प्रभावित किसानों को 31 करोड़ रुपये मुआवजे का ऐलान भी किया है. टिड्डी एक दिन में 150 किलोमीटर तक उड़ने की क्षमता रखती है. ये एक दिन में अपने वजन के बराबर अनाज खा सकती है. हालांकि भारत ने एहतियाती कदम उठाते हुए सही समय पर दवा का छिड़काव किया जिससे नुकसान को कम से कम किया जा सके.

एए/आईबी (डीपीए)

__________________________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

कैसे टिड्डियां मिनटों में कर देती हैं करोड़ों की खेती चौपट?

DW.COM

संबंधित सामग्री