इराक-ईरान सीमा पर भूकंप, 200 से ज्यादा मरे | दुनिया | DW | 13.11.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

इराक-ईरान सीमा पर भूकंप, 200 से ज्यादा मरे

इराक और ईरान की सीमा पर आये 7.3 तीव्रता के भूकंप में 200 से ज्यादा लोग मारे गये हैं. रविवार देर रात आये इस भूकंप में मरने वालों में ज्यादातर ईरानी लोग शामिल हैं.

ईरान और इराक के अधिकारियों ने पुष्टि की है कि अभी तक भूकंप में कम से कम 207 लोग मारे गये हैं. राहत और बचाव में लगी एजेंसियों को मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है. ईरान के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन के प्रवक्ता ने घायलों की संख्या 1,650 बतायी है. 60 से ज्यादा लोग ईरान के सारपोल ए जबाह शहर में मारे गये हैं जो सीमा से 15 किलोमीटर दूर है.

क्या पेड़ और मकान भूकंप रोक पायेंगे?

क्यों आते हैं हिमालय में ज्यादा भूकंप

ईरान में आपदा सेवाओं के प्रमुख पीर हुसैन कूलीवांड ने बताया, "गांवों में राहत टीमें भेज पाना मुश्किल हो रहा है क्योंकि सड़कें टूट गयी हैं और भूस्खलन हुआ है." राजधानी तेहरान से भूकंप प्रभावित इलाके लिए रेड क्रॉस की 30 टीमें भेजी गयी हैं. कई जगहों पर बिजली भी नहीं है. ईरानी अधिकारियों ने तीन आपात राहत शिविर बनाये हैं.

उधर, इराक के सुलेमानिया प्रांत में अधिकारियों ने भूकंप से अभी तक छह लोगों के मारे जाने की जानकारी दी है और घायलों की संख्या 150 बतायी है. अमेरिकी भूगर्भ सर्वे के मुताबिक 7.3 तीव्रता का भूकंप स्थानीय समय के अनुसार रविवार की रात 9.18 बजे आया. इसके झटके तुर्की तक महसूस किये गये.

इराक और ईरान की सीमा के आसपास के इलाके में अक्सर भूकंप आते रहते हैं जिसकी वजह धरती के नीचे अरेबियन और यूरेशियन टेक्टोनिक प्लेटों की हलचल है. 2003 में ईरान के बाम शहर में आये भयानक भूकंप में 31 हजार लोग मारे गये थे.

रविवार को ही मध्य अमेरिका में कोस्टा रिका के पास भी भूकंप आने की खबर है, हालांकि वहां से अभी तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. अमेरिकी भूगर्भ सर्वे ने जापान के पास भी भूकंप आने की बात कही लेकिन भूकंप प्रशांत महासागर में बहुत दूर था जिससे किसी तरह का नुकसान होने की आशंका नहीं है.

एके/ओएसजे (डीपीए, एपी, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन