गरीबी और कर्ज में पिसते अफगानिस्तान के बच्चे | ताना बाना | DW | 08.08.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

ताना बाना

गरीबी और कर्ज में पिसते अफगानिस्तान के बच्चे

अनुमान है कि 6 से 14 साल की उम्र वाला हर चार में से एक अफगान बच्चा अपने परिवार की माली मदद के लिए मजदूरी करता है. वे ऐसे कई कामों में लगे हैं जो किसी तरह से भी बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं माने जा सकते.

वीडियो देखें 02:14

बेड़ियों में जकड़ा बचपन

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री

विज्ञापन