जानबूझ कर कोविड से संक्रमित हुई चेक गणराज्य की गायिका की मौत | दुनिया | DW | 20.01.2022

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

जानबूझ कर कोविड से संक्रमित हुई चेक गणराज्य की गायिका की मौत

चेक गणराज्य में एक लोक गायिका की कोविड से मौत हो गई है. हाना होरका नाम की इस गायिका ने जानबूझ कर खुद को कोविड से संक्रमित किया था.

चेक गणराज्य की लोकगायिका हाना होरका की कोविड से मौत हो गई है. 57 वर्षीया होरका के परिवार ने बताया है कि ‘हेल्थ पास' हासिल करने के लिए उन्होंने जानबूझ कर खुद को संक्रमित किया था ताकि वह रेस्तरां और थिएटर आदि में जा सकें.

चेक गणराज्य में नियम है कि सार्वजनिक जगहों जैसे रेस्तरां, थिएटर और सांस्कृतिक केंद्रों आदि में जाने के लिए वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र दिखाना होता है. हालांकि, कोविड होने पर टीका लगवाने से छूट मिल जाती है.

‘उनके हाथ खून से रंगे हैं'

होरका के पुत्र यान रेक ने बताया कि होरका की रविवार को मौत हो गई. वह जानेमाने बैंड ऐसोनांस की मुख्य गायिका थीं. रेक ने सरकारी रेडियो आईरोजहाल्त्स को बताया कि क्रिसमस से पहले होरका ने खुद को संक्रमित कर लिया था जबकि उनके पति और बेटे ने टीका लगवाया था.

वीडियो देखें 00:59

वैक्सीन लगवाओ, पायलट के साथ कॉकपिट में जाओ

रेक ने कहा, "उन्होंने हमारे साथ सामान्य रूप से ही रहने का फैसला किया. उन्होंने फैसला किया कि टीका लगवाने से बेहतर है संक्रमित होना.”

लगभग एक करोड़ लोगों की आबादी वाले चेक रिपब्लिक में मंगलवार को 20 हजार से ज्यादा संक्रमण थे. मौत से दो दिन पहले ही होरका ने सोशल मीडिया पर लिखा था, "मैं बच गई. यह बहुत गंभीर था. इसलिए अब थिएटर होगा, सॉना और कॉन्सर्ट होगा. और समुद्र की एक तुरंत जरूरी यात्रा भी.”

रेक ने होरका की मौत के लिए स्थानीय वैक्सीनेशन विरोधी आंदोलन को जिम्मेदार बताया है. उन्होंने कहा कि उन लोगों के हाथ खून से रंगे हैं. रेक ने कहा, "मैं अच्छी तरह जानता हूं कि मेरी मां को किसने प्रभावित किया. मुझे इस बात का अफसोस है कि उन्होंने अपने परिवार के बजाय अनजान लोगों पर ज्यादा भरोसा किया.”

कोविड खत्म नहीं हुआ है

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि महामारी अभी खत्म होने के आसपास भी नहीं है. संगठन के प्रमुख तेद्रोस अधनोम गेब्रयेसुस ने कहा कि ओमिक्रॉन की तरह और वेरिएंट आते रहेंगे. एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने कहा, "यह महामारी खात्मे के आसपास भी नहीं है. और जिस तरह ओमिक्रॉन दुनियाभर में फैला है, बहुत संभव है कि नए वेरिएंट उभरते रहेंगे. इसलिए ट्रैकिंग और आकलन महत्वपूर्ण है.”

पिछले साल के आखिरी महीने में दक्षिण अफ्रीका में पहचाने गए ओमिक्रॉन के कारण पूरी दुनिया में एक बार फिर कोविड-19 के मामले चरम पर पहुंच गए हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अधिकारियों ने कहा है कि भले ही ओमिक्रॉन पहले से कम खतरनाक है लेकिन इस कारण लोगों को अस्पताल में भर्ती होना पड़ रहा है और उनकी जानें भी जा रही हैं.

डबल्यूएचओ के स्वास्थ्य आपदा योजना के कार्यकारी निदेशक माइक रायन ने कहा, "इसे हल्का वायरस कहना या कम खतरनाक कहना यह भाव देता है कि इसका स्वास्थ्य व्यवस्था पर कम असर होगा. अगर यह वायरस नियंत्रण से बाहर हो जाएगा तो ऐसा नहीं होगा. इसीलिए हमारी सलाह है कि कड़े उपाय जारी रखे जाएं.”

कुछ सरकारों ने संकेत दिए हैं कि वे अब कोविड-19 महामारी को स्थानीय बीमारी के तौर पर ही मानेंगी. हालांकि अधिकारियों का कहना है कि ओमिक्रॉन वायरस ने अब तक प्रतिरोधी क्षमता को सबसे ज्यादा पार किया है और यह वैक्सीन ले चुके लोगों में भी तेजी से फैसला है.

वीके/एए (रॉयटर्स, एएफपी, डीपीए)

वीडियो देखें 00:51

सात सौ भेड़ों ने मिलकर बनाई सिरींज

DW.COM